Home » बिज़नेस » Monitoring Policy: after repo rate increases how much the will affect your home loan
 

जानिये रेपो रेट में बढ़ोतरी से आपके होम लोन पर पड़ेगा कितना असर, क्या होगी EMI ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2018, 18:26 IST

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई की) मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी के कारण मुद्रास्फीति दबाव के चलते बुधवार को रेपो दरों को 0.25 बेसिस पॉइंट्स बढाकर 6.5 फीसदी कर दिया है. साथ ही भविष्य में दरों में बढ़ोतरी के लिए दरवाजा खुला रखा है. आरबीआई के इस कदम के बाद बैंक अपने लोन की ब्याज दरें बढ़ा सकते हैं साथ ही बैंकों के ईएमआई बढ़ाने की आशंका है.

आपकी EMI पर ऐसे पड़ेगा असर 

आरबीआई द्वारा ब्याज दरें बढाए जाने के बाद आपकी ईएमआई में इजाफा होना एकदम तय है. एक विश्लेषण के अनुसार अगर आपका 30 लाख रुपए का लोन 25 साल के लिए है और उसपर 8.75 फीसदी ब्याज है. माना कि इस पर आपकी EMI 24,664 रुपए है. 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी के बाद आपकी EMI अब 25176 रुपए होगी. इसका मतलब है कि आपकी ईएमआई में महीने 512 रुपए का इजाफा हो जायेगा. यानी लाख रुपए पर करीब 17 रुपए की बढ़ोतरी.

इसी तरह 1 लाख रुपए के 20 साल की अवधि के लोन पर अगर EMI अभी 868 रुपए है तो 0.25 फीसदी ब्याज (8.5 से 8.75 फीसदी) बढ़ने पर ये 884 रुपए हो जायेगा. अगर ब्याज दर 9 फीसदी हो जाती है तो EMI 900 रुपए होगी.

व्यापक आर्थिक नीति के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) मुद्रास्फीति, ब्याज दरों, धन की आपूर्ति और क्रेडिट उपलब्धता को नियंत्रित करने के लिए मौद्रिक नीति का उपयोग करता है.

आरबीआई की सरकार द्वारा गठित मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) है जिसे रेपो दर, रिवर्स रेपो दर, बैंक दर, नकदी आरक्षित अनुपात (सीआरआर) जैसे उपकरणों का उपयोग करके मौद्रिक नीति तैयार करने का कार्य सौंपा गया है. उनमें से रेपो दर, जिसे नीति दर के रूप में भी जाना जाता है. 

ये भी पढ़ें : मॉनिटरी पॉलिसीः RBI ने बढ़ाया रेपो रेट, महंगा होगा लोन

First published: 1 August 2018, 18:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी