Home » बिज़नेस » ndia's first-time internet users are addicted to these quirky Chinese apps
 

मोदी के 130 करोड़ भारतीयों पर कब्ज़ा करने उतर चुके हैं ये चाइनीज मोबाइल ऐप्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2019, 16:39 IST

लगातार डिजिटल हो रहे भारत पर चीन किस तरह कब्ज़ा कर रहे हैं, इसका उदाहरण इस बात से दिया जा सकता है कि इन देशों के  quirkiest सोशल-मीडिया कंपनियां भारत में उन करोड़ों उपभोक्ताओं तक पहुंचना चाहती है जो अभी तक फेसबुक, ट्विटर या अन्य अमेरिकी ऐप पर उपलब्ध नहीं हैं. चीनी कंटेंट-शेयरिंग एप्स जैसे कि बिगो इंक, लाइक, बिगो लाइव, हेलो और टिकटॉक जैसे एप 130 करोड़ के इस देश में प्रवेश कर चुके हैं. एड-सपोर्टेड मॉडल्स के साथ इन ऐप्स पर इस तरह का कंटेंट दिया गया है, जिससे लोग यहां ज्यादा से ज्यादा वक़्त गुजर सके. इन वीडियो में अक्सर लड़कियों को चुंबन, देशभक्ति के गीत और नवीनतम बॉलीवुड के गाने हैं.

इन लोगों में लोकप्रिय हो रहे हैं चीनी ऐप्स 

लाइव मिंट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यह ऐप्स पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर की 31 वर्षीय आशा लिंबु जैसे लोगों में लोकप्रिय हो रहे हैं, जो नई दिल्ली में हाउसकीपर के रूप में काम करती हैं. एक मध्यम वर्गीय परिवार के लिए गृहकार्य करने के बीच लिम्बु एक दिन में तीन घंटे लाइक एप पर बिताती हैं. इन ऐप्स में सैकड़ों छोटे वीडियो स्क्रॉल करके देखे जा सकते हैं. इसमें दोस्तों और अजनबियों के साथ जुड़ना शामिल है.

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार वह कहती हैं कि फेसबुक उबाऊ है, उसने ट्विटर और इंस्टाग्राम के बारे में सुना है, लेकिन कभी उन्हें चलाने की कोशिश नहीं की. चीनी सोशल मीडिया ऐप भारत में धूम मचा रहे हैं. 200 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ फेसबुक की व्हाट्सएप मैसेजिंग सेवा, भारत के कई सामाजिक आर्थिक वर्गों और भाषा बोलने वालों में बेहद लोकप्रिय है. भारत में अक्सर लोग YouTube और Google से वीडियो देखते हैं लेकिन कुछ नए चीनी ऐप्स अधिक तेज़ी से बढ़ रहे हैं और जल्द ही देश में फेसबुक और अल्फाबेट के विज्ञापन डॉलर के वर्चस्व को खत्म कर सकते हैं.

950 मिलियन बार डाउनलोड हुए चीनी ऐप्स  

चीनी कंपनियां विदेशों में विस्तार कर रही हैं क्योंकि चीन में वह मंदी का सामना कर रही हैं और घर पर सेंसरशिप में वृद्धि हुई है. मोबाइल डेटा फर्म सेंसर टॉवर के अनुसार, चीनी सोशल-मीडिया ऐप को पिछले साल भारत में 950 मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया गया था, जो 2017 से तीन गुना ज्यादा है.

चीनी दिग्गज टेनसेंट होल्डिंग्स लिमिटेड, अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लिमिटेड और वेइबो कॉर्प भारत में अपने पैर जमा चुके हैं. लाइक जैसे ऐप बेहद लोकप्रिय हो रहे हैं. बिगो, 2016 में चीनी लाइव-स्ट्रीमिंग कंपनी YY.com के अध्यक्ष डेविड ज़ुएलिंग ली द्वारा स्थापित किया गया था. ऐप और इसकी सिस्टर प्लेटफॉर्म, वीडियो-स्ट्रीमिंग ऐप बिगो लाइव, के वैश्विक स्तर पर 69 मिलियन मासिक उपयोगकर्ता हैं.

रणवीर सिंह जैसे स्टार कर रहे लोकप्रिय 

हालांकि उसके भारत ने कितने यूजर्स हैं उसने इस बात का खुलासा नहीं किया है. बिगो ने फरवरी में कहा था कि वह भारत में अपने कारोबार का विस्तार करने और 1,000 लोगों को नौकरी देने के लिए 100 मिलियन डॉलर का निवेश करेगा. रणवीर सिंह जैसे बॉलीवुड सुपरस्टार्स की लाइक ऐप पर मौजूदगी ने इसकी लोकप्रियता में इजाफा किया है. रणवीर सिंह द्वारा स्वयं के नाचने के वीडियो अपलोड के चार महीनों में 4.6 मिलियन फॉलोअर्स हो गए.

फेसबुक पर उनके लगभग 10.2 मिलियन प्रशंसक हैं और उनके 11.7 ट्विटर फॉलोअर्स के एक तिहाई से अधिक हैं. कई चीनी ऐप उन उपयोगकर्ताओं को टारगेट करते हैं जो भारत में शहरों की अंग्रेजी बोलने वाली आबादी से बाहर हैं. पिछले साल Bytedance ने हेलो नाम से भारत के लिए एक नया ऐप लॉन्च किया था. जिसको सॉफ्टबैंक का सपोर्ट है, और 14 भारतीय भाषाओं का इसमें विकल्प दिया गया है. लेकिन इसमें अंग्रेजी नहीं है.

कंपनी के जून में लॉन्च होने के बाद से हेलो ने 25 मिलियन मासिक उपयोगकर्ताओं बटोरे हैं. हर दिन औसतन 100,000 नए उपयोगकर्ताओं को जोड़ रहा है. देश के पत्रकारों, राजनेताओं, अभिनेताओं और अन्य अभिजात वर्ग भारत में ट्विटर ट्विटर इसी तरह पसंद करता है, जिसके बारे में रिसर्च फर्म eMarketer का अनुमान है कि लगभग 26 मिलियन उपयोगकर्ता हैं.

टिकटॉक, बायेडेंस का शॉर्ट-वीडियो ऐप, दुनिया भर में लोकप्रिय है और इसने भारत में बड़े पैमाने पर लाभ कमाया है. भारत में फेसबुक ऐप का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या के हिसाब से सेंसरटॉर टॉवर या उसके वैश्विक कुल का एक चौथाई हिस्सा टिकटॉक के पास लगभग 260 मिलियन उपयोगकर्ता हैं.

केपीएमजी के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में 100 अरब डॉलर की तुलना में वार्षिक राजस्व में लगभग 2 बिलियन डॉलर के साथ देश का डिजिटल विज्ञापन बाजार अभी भी छोटा है, लेकिन भारत का बाजार अगले पांच वर्षों में तीन गुना हो सकता है.

First published: 15 March 2019, 16:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी