Home » बिज़नेस » New Maruti Swift, Dzire may be recalled over faulty airbag controllers
 

नई Swift Dzire के एयरबैग में आयी शिकायत, कंपनी वापस मंगाएगी कई कारें

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 July 2018, 12:47 IST

मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने बुधवार को कहा कि वह एयरबैग नियंत्रक में संभावित गलती का निरीक्षण करने के लिए नई स्विफ्ट और डिजायर मॉडल की 1,279 इकाइयों को वापस मंगा रहा है. कंपनी ने एक बयान में कहा है कि वह 7 मई से 5 जुलाई 2018 के बीच बनी 1,279 वाहनों (566 नए स्विफ्ट और 713 नए डिजायर) को वापस मंगा रहा है.

यह अभियान वैश्विक रूप से गलतियों को सुधारने के लिए किए जाते हैं जो संभावित सुरक्षा के लिए हानिकारक हो सकते हैं. 25 जुलाई 2018 से शुरू होने वाले वाहनों के मालिकों को मारुति सुजुकी डीलरों से खराबी वाले के निरीक्षण के लिए संपर्क करने को कहा गया है.

 

इस साल मई में एमएसआई ने ब्रेक वैक्यूम नली में संभावित गलती के निरीक्षण के लिए 52,686 नए स्विफ्ट और बालेनो मॉडल के ग्राहकों से पूछा था.

भारत में ऑटोमोबाइल निर्माता जुलाई 2012 में इंडस्ट्री बॉडी सियाम द्वारा अपनाई गई एक स्वैच्छिक यादगार नीति का पालन करते हैं. जिसके अंतर्गत एक कंपनी विनिर्माण गलतियों के लिए जो वाहनों की सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकती.

ये भी पढ़ें : भारत में दुपहिया इलेक्ट्रिक वाहन लेकर आ रही है इटली की ये मशहूर कंपनी

कंपनी बना रही नई बैटरी 

भारत में सबसे ज्यादा कारें बेचने वाली जापानी की कंपनी सुजुकी मोटर कार्पोरेशन अपनी भारत में बेचे जाने वाली वाली प्रीमियम कारों में नई तरह की लिथियम-आयन बैटरियां फिट करने जा रही है. कंपनी इन बैटरियों को गुजरात में अपने वित्त वर्ष 21 में शुरू होने वाले अपने बैटरी संयंत्र से बनाएगा.

लंबे समय तक चलने वाली लिथियम-आयन बैटरी मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड द्वारा बेची गई कारों में लगी परंपरागत लीड-बैटरी को रिप्लेस करेगी. लिथियम-आयन बैटरी स्विफ्ट हैचबैक में फिट होगी और सभी मॉडल जो इससे अधिक महंगे हैं,उनमे यह बैटरी लगायी जाएगी.

 सुजुकी का मानना है कि इससे उनके लाभ में दोगुनी वृद्धि होने की उम्म्मीद है. क्योंकि यह सोर्सिंग की जाने वाली लीड बैटरी से लागत में फायदा देगी. मारुति भारत में कुल कारों का 50% बेचती है. यदि वे लिथियम-आयन बैटरी के साथ 1 मिलियन कारों को फिट करने में कामयाब होते हैं, तो यह संख्या में बहुत ज्यादा होगी.
First published: 25 July 2018, 12:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी