Home » बिज़नेस » New safety rules may close 50% of ATMs by March 2019: Industry association
 

देश के 1.13 लाख से ज्यादा ATM इस वजह से हो सकते हैं बंद, CATMi ने चेतावनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 November 2018, 10:01 IST

उद्योग संगठन कन्फेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री (CATMi) ने चेतावनी दी है कि 2019 तक देश के आधे एटीएम बंद हो सकते हैं. नई कम्प्लाइंस कॉस्ट और एक ट्रांजेक्शन पर 15 रुपये इंटरचेंज शुल्क से लगभग 100,000 ऑफ-साइट एटीएम और 15,000 से अधिक वाइट लेबल स्वचालित टेलर मशीन (एटीएम) बंद हो सकते हैं.

CATMi का कहना है कि वर्तमान में देश में लगभग 2.38 लाख एटीएम मशीनें हैं लेकिन इसके चले देश के लगभग 1.13 लाख बंद करने पड़ सकते हैं. बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार एक प्रबंध निदेशक (खुदरा और डिजिटल बैंकिंग) एसबीआई पी के गुप्ता ने कहा "नई नियामक आवश्यकताएं आई हैं, इसलिए एटीएम को अपग्रेड करने की आवश्यकता है.

 

हमारे पास मूल रूप से दो प्रकार के एटीएम हैं - एक हमारी अपनी मशीन है, जिसे हम अपग्रेड कर देंगे, और दूसरी जो विक्रेता से संबंधित है. बैंक विक्रेताओं से बात कर रहा है और समाधान ढूंढने की कोशिश कर रहा है. " एक निजी बैंक के एक प्रवक्ता ने कहा भारतीय बैंक एसोसिएशन ने आरबीआई से मानदंडों को आराम करने या नकद प्रबंधन के लिए समय सीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था, लेकिन यह अपने मूल जनादेशों पर दृढ़ रहा.

संस्था का कहना है कि एटीएम सर्विस देने वाली कंपनियों को एटीएम की लागत के ज्यादा होने के कारण इस कदम के लिए मजबूर होने पड़ेगा. CATMi के मुताबिक सिर्फ नई कैश लॉजिस्टिक और कैसेट स्वैम मेथड में बदलाव करने से 3500 करोड़ का खर्च आएगा.

सीएटीएमआई ने कहा, "सेवा प्रदाताओं के पास इतनी भारी लागतों को पूरा करने के लिए वित्तीय साधन नहीं हैं और इन एटीएम को बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है. जब तक कि बैंक अनुपालन की अतिरिक्त लागत के भार को सहन करने में कदम नहीं उठाते हैं.

 ये भी पढ़ें : पेट्रोल-डीजल के दामों में हुई भारी कटौती, एक दिन के ब्रेक के बाद 71 रुपये से कम हुआ डीजल

First published: 22 November 2018, 10:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी