Home » बिज़नेस » New SBI ATM withdrawal limits come into effect next week
 

31 अक्टूबर से आप SBI के एटीएम से निकाल पाएंगे सिर्फ इतनी रकम

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 October 2018, 11:12 IST

एसबीआई (SBI) खाता धारकों के लिए 31 अक्टूबर से एटीएम से पैसे निकालने के नए नियम लागू कर रहा है. 31 अक्टूबर से देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई क्लासिक और मेस्ट्रो डेबिट कार्ड के लिए दैनिक नकद निकासी सीमा को 40,000 रुपये प्रति दिन से 20000 रुपये करने का रहा है.

मार्च 2018 तक एसबीआई ने 39.50 करोड़ डेबिट कार्ड जारी किए थे जबकि लगभग 26 करोड़ कार्ड सक्रिय रूप से उपयोग किए जा रहे थे. अन्य एसबीआई डेबिट कार्ड पर दैनिक निकासी सीमा में कोई बदलाव नहीं होगा. उदाहरण के लिए, एसबीआई के गोल्ड और प्लैटिनम डेबिट कार्ड में दैनिक एटीएम निकासी सीमा 50,000 रुपये और 1 लाख रुपये है.

 

एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर कहा "31 अक्टूबर 2018 से क्लासिक और मेस्ट्रो डेबिट कार्ड के लिए दैनिक नकदी निकासी सीमा 40,000 रुपये से 20,000 रुपये प्रति दिन हो गई. यदि आपको दैनिक नकद निकासी सीमा की आवश्यकता है, तो कृपया हायर कार्ड वेरिएंट के लिए आवेदन करें." दैनिक निकासी सीमा को कम करने के पीछे प्रमुख कारण एटीएम धोखाधड़ी को कम करना और डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना था.


एसबीआई के प्रबंध निदेशक पीके गुप्ता ने बताया, "हमारे आंतरिक विश्लेषण से पता चलता है कि ज्यादातर वास्तविक निकासी छोटी मात्रा में हैं. इसलिए अधिकांश ग्राहकों के लिए 20,000 रुपये पर्याप्त होने चाहिए. हम यह देखने की कोशिश कर रहे हैं कि छोटे निकासी धोखाधड़ी को कम कर सकती हैं या नहीं.

इस बीच डिजिटल लेनदेन की आवृत्ति के बावजूद लोगों की नकदी की मांग बढ़ती जा रही है. अप्रैल 2018 में भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों से पता चला कि अप्रैल के अंत में नकद की मांग 7 फीसदी अधिक 18.25 ट्रिलियन रुपये थी, जो नवंबर 2016 की शुरुआत में 17 ट्रिलियन रुपये थी.

अगस्त में गृह मंत्रालय ने अधिसूचित किया कि शहरों में 9 बजे के बाद और ग्रामीण इलाकों के एटीएम में 6 बजे के बाद कोई भी नगदी नहीं डाली जाएगी. नक्सली प्रभावित इलाकों में स्थित एटीएम में पैसा डालने की समय सीमा 4 बजे होगी जबकि निजी नकद हैंडलिंग एजेंसियों को दिन के पहले भाग में बैंकों से पैसा इकट्ठा करना होगा और केवल बख्तरबंद वाहनों में परिवहन नोट्स जमा करना होगा.

First published: 27 October 2018, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी