Home » बिज़नेस » New sbi interest rate rules for savings account short term deposits from 1 may
 

SBI के आज से बदल जाएंगे ये 2 नियम, करोड़ों ग्रहाकों के जेब पर पड़ेगा भारी असर

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2019, 9:12 IST

भारत के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया आज से अपने दो नियमों में बदलाव करने जा रहा है. इस बदलाव का असर खाता धारकों पर पड़ेगा. एसबीआई के बदले हुए नियम में नुकसान के साथ-साथ फायदा भी है.

पहले नियम में बदलाव से एसबीआई ग्राहकों को जबरदस्त मुनाफा मिलने के आसार हैं. इस नियम के बदलाव से एसबीआई देश का पहला ऐसा बैंक बन जाएगा, जिसने लोन और डिपॉजिट रेट को सीधे RBI के रेपो रेट से जोड़ हो. बैंक के इस बदलाव से अब ग्राहकों को सस्ते दर में लोन मिलेगा. इसके साथ ही एसबीआई ने बचत खाता के ब्याज दर को घटा दिया है. एसबीआई के इस फैसले से ग्राहकों पर असर पड़ेगा.

ब्याज दर होगा तय

अबतक एसबीआई मार्जिनल कोस्ट ऑफ फंड बेस लेंडिंग रेट (MCLR) के जरिए लोन ब्याज दर तय करता था. इससे रेपो रेट में कटौती के बाद भी बैंक MCLR में कोई राहत नहीं देती थी. लेकिन आज से लागू इस नियम से बैंक ग्राहकों को सीधए फायदा मिलेगा.

नुकसान

एसबीआई ने एक ओर जहां ग्राहकों को सस्ता लोन देने के लिए नए नियम में बदलवा किए हैं. तो वहीं दूसरी ओर बचत खाते का ब्याज दर कम करते ग्राहकों को तगड़ा झटका दिया है. इस नए नियम के अनुसार, आज (1 मई) से एक लाख रुपए तक के डिपॉजिट पर बचत खाते में सिर्फ 3.50 प्रतिशत ब्याज मिलेगा. इसके साथ अगर खाते में आपके 1 लाख रुपए से ज्य़ादा अमाउंट है, जो आपको 3.25 फीसदी ब्याज ही मिलेगा.

कल से बदल जाएंगे SBI के ये नियम, लाखों लोगों को होगा जबरदस्त मुनाफा

इस मामले को लेकर बैंक द्वारा कहा, "एक लाख रुपये से अधिक सीमा वाले सभी नकद ऋण खातों और ओवरड्राफ्ट सुविधा को भी रिजर्व बैंक की रेपो दर के ऊपर 2.25 प्रतिशत तक की जमा के अनुरूप ब्याज दर के साथ जोड़ दिया जाएगा." स्टेट बैंक की वेबसाइट के अनुसार, "इस न्यूनतम दर के ऊपर जो भी जोखिम प्रीमियम होगा वह वर्तमान में अपनाये जाने वाले नियमों के मुताबिक उधार लेने वाले की जोखिम स्थिति के अनुसार होगा."

इस जबरदस्त SIP स्कीम में करें 150 रुपये निवेश, मिलेगा 30 लाख एकमुश्त रिटर्न

First published: 1 May 2019, 9:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी