Home » बिज़नेस » New York Times wrote Ramdev is more powerful than any prime minister, may run for prime minister himself
 

प्रधानमंत्री से ज्यादा ताकतवर हैं रामदेव, बन सकते हैं पीएम दावेदार: न्यूयॉर्क टाइम्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 16:33 IST

बाबा रामदेव अक्सर देश और देश से बाहर की मीडिया में चर्चाओं में बने रहते हैं. एक साधारण योग गुरु से पतंजलि आयुर्वेद का करोड़ों का साम्राज्य खड़े करने के पीछे की कहानी भी अक्सर अलग-अलग तरीके से छपती रहती है. इस बार अमेरिका के बड़े अख़बार 'द न्यूयॉर्क टाइम्स' ने बाबा रामदेव के कारोबार और उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को लेकर एक स्टोरी प्रकाशित की है.

इस स्टोरी में मशहूर अमेरिकी लेखक रॉबर्ट एफ वर्थ ने लिखा है कैसे बाबा रामदेव भारतीय मध्यम वर्ग में अपने बड़े योग शिविरों और टेलीविजन की मदद से लोकप्रियता हासिल करते गए. उन्होंने अपनी दवा-और उपभोक्ता सामान कंपनी पतंजलि आयुर्वेद को कई अरब डॉलर का बना दिया. गौरतलब है कि रॉबर्ट एफ वर्थ कई मशहूर किताबें लिख चुके हैं. उन्होंने Arab Spring uprisings of 2011, और “A Rage for Order जैसी किताबें लिखी हैं.

www.nytimes.com

लेख में बाबा रामदेव की राजनीतिक महत्वकांक्षा को लेकर वर्थ लिखते हैं कि ''बाबा रामदेव अपने तरीके से भारत के डोनाल्ड ट्रम्प हैं. भारत में बहुत सी अटकलें लगाई जाती हैं कि आने वाले समय में वह खुद प्रधानमंत्री की दौड़ में शामिल कर सकते हैं''. ट्रम्प से बाबा रामदेव की तुलना करते हुए अख़बार लिखता है कि ''ट्रम्प की तरह वह एक अरब डॉलर के साम्राज्य का नेतृत्व करते हैं. ट्रम्प की तरह वह एक टीवी पर छा जाने वाले व्यक्तित्व है. जिस तरह ट्रम्प ने खुद WWE के जरिये टीवी पर मशहूर किया उसी तरह बाबा रामदेव भी टीवी पर भारत में एक ब्रांड की तरह हैं''.

न्यूयॉर्क टाइम्स लिखता है कि ''रामदेव ने 2014 में भ्रष्टाचार के खिलाफ एक आंदोलन चलाया था. जिसने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनवाने में मदद की. रामदेव ने कई मौकों पर पीएम मोदी के साथ मंच साझा किया, अख़बार ने रामदेव को पीएम मोदी का करीबी मित्र बताया''.

आगे लिखा गया है कि उनका नाम और चेहरा भारत में हर जगह जाना जाता हैं. अख़बार आगे लिखता है कि मई में उन्होंने स्वदेशी सिम कार्ड को अपने लगातार बढ़ते उत्पादों की सूची में शामिल किया. यही नहीं वह नूडल्स, हर्बल, कब्ज उपचार, जो मूत्र से लेकर बने फर्श क्लीनर जैसे उत्पाद बेचते हैं. उनके पास डब्लू डब्लू.ई स्टाइल में प्रचार स्टंट है. पिछले साल उन्होंने एक टेलीविजन शो में के ओलंपिक पहलवान को हरा दिया था.

न्यूयार्क टाइम्स की स्टोरी में इस बात का भी जिक्र है कि पिछले साल अदालत ने रामदेव के जीवन पर लिखी एक किताब पर रिलीज होने से पहले ही प्रतिबन्ध लगा दिया. यहां तक कि किताब के लेखक को एक गैग आर्डर पेश कर दिया गया. अख़बार लिखता है कि एक अर्थ में रामदेव किसी भी प्रधानमंत्री की तुलना में अधिक शक्तिशाली हैं. वह पूरी तरह से नई नस्ल हो सकते है. एक पॉपुलिस्ट टाइकून है जिनके पास अपने आलोचकों से बचने के लिए विशाल संख्या में फॉलोवर्स हैं.

ये भी पढ़ें : पाकिस्तान के चुनाव पर यूरोपियन संघ ने भी उठाये सवाल, कही ये बड़ी बातें

First published: 28 July 2018, 16:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी