Home » बिज़नेस » No ATM will be replenished with cash after 9 pm in cities and 6 pm in rural areas from February next year
 

घड़ी में इतने बजते ही ATM में नहीं भरा जायेगा कैश, गृह मंत्रालय ने बनाये कड़े नियम

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2018, 13:54 IST

गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक नए निर्देश के मुताबिक अगले साल फरवरी से ग्रामीण इलाकों में शाम 6 बजे बाद और शहरी इलाकों में 9 बजे के बाद एटीएम में नकदी नहीं भरी जा सकेगी. अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि संचालन को संभालने वाली निजी एजेंसियों को दिन की शुरुआत होते ही बैंकों से पैसा इकट्ठा करना होगा और उन्हें बख्तरबंद वाहनों में ले जाना होगा. जबकि नक्सल प्रभावित इलाकों में एटीएम मशीन की भरने की समयसीमा 4 बजे तक है.

कैश वैन, कैश vaults और एटीएम पर हमलों और धोखाधड़ी के मामलों की बढ़ती घटनाओं के चलते नया निर्देश जारी किया गया है. ये नियम 8 फरवरी 2019 से प्रभावी होंगे. गृह मंत्रालय के आदेश में यह भी निर्देश दिया कि प्रत्येक कैश वैन में एक चालक और दो सशस्त्र सुरक्षा गार्ड होंगे.

एटीएम में पैसे डालते समयदो एटीएम अधिकारी मौजूद होंगे. जबकि एक सशस्त्र गार्ड को ड्राइवर के साथ आगे बैठना होगा जबकि दूसरा वैन के पीछे स्थित होगा. वैन को अनदेखा नहीं किया जा सकता है और लोडिंग या अनलोडिंग के दौरान, टॉयलेट ब्रेक, चाय या लंच ब्रेक, कम से कम एक सशस्त्र सुरक्षा गार्ड नकद वैन के साथ हर समय मौजूद रहेगा.

गृह मंत्रालय ने यह भी आदेश दिया है कि एटीएम अधिकारियों को केवल पुलिस, आधार और निवास सत्यापन, उनकी पिछली नौकरी के रिकॉर्ड, क्रेडिट इतिहास के पृष्ठभूमि जांच के बाद नियुक्त किया जाना चाहिए. कैश वैन के लिए सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक पूर्व सैनिक को अधिमानतः नियुक्त किया जा सकता है. कैश वैन को कम से कम पांच दिन रिकॉर्डिंग सुविधा और केबिन के अंदर, पीछे और अंदर स्थापित तीन कैमरे के साथ एक छोटी सी सीसीटीवी प्रणाली प्रदान की जाएगी.

हमले के मामले में त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने के लिए वैन को एक जीपीएस ट्रैकिंग डिवाइस, आग बुझाने वाले और आपातकालीन उपकरण के साथ रखा जायेगा. इसमें जीएसएम-आधारित ऑटो-डायलर और एक मोटरसाइकिल साइरन के साथ एक सुरक्षा अलार्म भी होगा. निजी सुरक्षा एजेंसी यह सुनिश्चित करेगी कि गिनती, सॉर्टिंग और बंडलिंग गतिविधियों सहित सभी नकद हैंडलिंग विशिष्ट परिसर में विशिष्ट दिशानिर्देशों के अनुसार की जाएगी.

ये भी पढ़ें : IIM-A का एक पूर्व छात्र कैसे सालाना 5000 रुपये में झोपड़ियों में क्वालिटी शिक्षा दे रहा है

First published: 19 August 2018, 13:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी