Home » बिज़नेस » Now there is also a face identification to buy a SIM
 

अब सिम खरीदने के लिए आधार कार्ड ही नहीं फेस रिकग्नाइज़ेशन भी है जरुरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 August 2018, 15:31 IST

टेलिकॉम कंपनियां ने अब सिम खरीदने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है. अब कंपनियों को आधार अथॉरिटी ने एक नए नियम का पालन करने को कहा है. इस नियम से अब कोई भी ग्राहक फर्जी मोबाइल सिम नहीं खरीद पाएगा, क्योंकि अब टेलिकॉम कंपनी 15 सितंबर से पभोक्ताओं के वेरीफिकेशन के लिए फेस रिकग्नाइज़ेशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करेंगी.

इसके लिए हर टेलिकॉम कंपनी को कम से कम 10 फीसदी उपभोक्ताओं का फेस रिकग्नाइज़ेशन टेक्नोलॉजी से वेरिफेकिशन करना होगा. इसे धीरे-धीरे बढ़ा दिया जाएगा, कंपनी ने यह फैसला कई लोगों के बायोमेट्रिक्स नहीं चलने के बाद लिया है. इस नियम से अब वही लोग सिम खरीदेंगे जिन्हें वास्तव में सिम की जरुरत होगी.

फर्जी सिम खरीदने के लिए लोग दूसरे के नाम का इस्तेमाल करते हैं फिर उन लोगों को फंसा देते है. अब इस तरह की घटनाओं में भी कमी आएगी, इस बदलाव के बाद कोर्इ भी किसी के नाम से फर्जी मोबाइल सिम नहीं खरीद पाएगा अगर कोई भी टेलिकॉम कंपनी इस तरह के नियम का पालन नहीं करेगा तो उसके उपर  20 पैसे प्रति सब्सक्राइबर जुर्माना लगाया जाएगा.

ये भी पढ़ें: मिलिए उन लोगों से जो चलाते हैं भारतीय रिजर्व बैंक, बोर्ड में शामिल हैं ये 21 लोग

First published: 20 August 2018, 15:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी