Home » बिज़नेस » NPA: Fiscal year 2017-18 banks record 1.44 lakh crore write-offs
 

NPA : वित्त वर्ष 2017-18 में बैंकों ने रिकॉर्ड 1.44 लाख करोड़ बट्टे खाते में डाले

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2018, 10:21 IST

एनपीए से बैंकों को भारी नुकसान होने के बाद भी बैंकों ने साल 2018 के मार्च में समाप्त हुए वित्त वर्ष में 1,44,093 करोड़ रुपये का बैड लॉन बट्टे खाते में डाला. जबकि इससे पिछले वर्ष यह आंकड़ा 89,048 करोड़ रुपये था. इस साल इस आंकड़े में 61.8 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

एक रिपोर्ट के अनुसार 2009 से पिछले 10 वर्षों में निजी और सरकारी स्वामित्व वाले बैंकों ने 31 मार्च 2018 तक 4,80,093 करोड़ रुपये के बैड लोन बट्टे खाते में डाले. इस राशि का 83.4 प्रतिशत या 400,584 करोड़ पब्लिक सेक्टर बैंकों का था.

आंकड़े बताते हैं कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 2017-18 में 40,281 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले जबकि पीएनबी ने 7,407 करोड़ रुपये और इंडियन ओवरसीज बैंक ने 10,307 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले. आईसीआरए के आंकड़ों के मुताबिक एसबीआई ने अकेले पिछले 10 वर्षों में 1,23,137 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले. जबकि बैंक ऑफ इंडिया ने 28,068 करोड़ और केनरा बैंक ने 25,505 करोड़ रुपये और पीएनबी ने 25,811 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले.

मार्च 2018 को समाप्त वर्ष में निजी बैंकों ने 13,119 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले जबकि इसके पिछले साल यह आंकड़ा 23,928 करोड़ रुपये था. इन बैंकों में एक्सिस बैंक ने 11,688 करोड़ रुपये और आईसीआईसीआई बैंक ने 9,110 करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले. पिछले 10 वर्षों में निजी बैंकों द्वारा कुल बट्टे खाते में डाली गई राशि 79,490 करोड़ रुपये थी.

ये भी पढ़ें : कंगाली की कगार पर पाकिस्तान, भारतीय करेंसी के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया बस अठन्नी

First published: 15 June 2018, 10:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी