Home » बिज़नेस » One-third of public sector banks remain headless as a Prime Minister-headed panel is yet to clear the CEO appointments
 

बिना CEO और MD के चल रहे हैं देश के एक-तिहाई पब्लिक सेक्टर बैंक

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 August 2018, 12:39 IST

प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाला पैनल अभी तक देश के एक तिहाही सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सीईओ नियुक्त नहीं कर पाया है. यहां तक कि देश के तीन सरकारी बैंकों में मुख्य कार्यकारी अधिकारी पद सात महीने से अधिक समय से खाली हैं. 31 जुलाई को दो और बैंकों के सीईओ - केनरा बैंक के राकेश शर्मा और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के राजीव ऋषि अपने पदों से रियाटर हो गए.

बिजनेस लाइन की रिपोर्ट की माने तो इस तरह की रिक्तियों की कुल संख्या अब सात हो गई है. देश में 21 सार्वजनिक क्षेत्र के उधारदाता हैं. इस साल जनवरी से देना बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक और आंध्र बैंक के सीईओ नहीं हैं.

मई में इलाहाबाद बैंक के एमडी और सीईओ उषा अनंत सुब्रमण्यम को सीबीआई ने नीरव मोदी घोटाले में चार्ज करने के बाद अपनी जिम्मेदारियों से वंचित कर दिया था. जून में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के एमडी और सीईओ आर मराठे को भी रियल एस्टेट डेवलपर को ऋण देने के दौरान मानदंडों का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद पद से हटा दिया गया था.

बैंक ऑफ बड़ौदा के एमडी और सीईओ पीएस जयकुमार अगस्त में अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा करेंगे, हालांकि उनको विस्तार मिलने की संभावना है.

वित्त मंत्री  का आश्वासन

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने 8 जून को मीडिया को बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में कई कार्यकारी निदेशकों के पदों के साथ इन शीर्ष पदों को एक महीने में भर दिया जाएगा'. बैंकों के बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) ने भी जून के अंत तक केंद्र सरकार को 14 उम्मीदवारों के नामों की सिफारिश की थी. इन उम्मीदवारों को मौजूदा वित्तीय वर्ष में उत्पन्न रिक्तियों के लिए नियुक्त किया जाना था. प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी) नियुक्तियां करती है.

सरकार ने एसबीआई के एमडी के रूप में अंशुला कांत को अभी तक नियुक्त नहीं किया है, जैसा कि बीबीबी द्वारा अनुशंसित किया गया था. बैंकरों के मुताबिक इससे बैंकों में निर्णय लेने की प्रक्रिया नेतृत्व की अनुपस्थिति में प्रभावित होती है, खासकर जब त्यौहारों के मौसममें क्रेडिट की मांग बढ़ती है.

ये भी पढ़ें : जिस एलओयू लेटर से नीरव मोदी ने किया घोटाला, संसदीय समिति ने कहा वह सुविधा फिर हो शुरू

First published: 7 August 2018, 12:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी