Home » बिज़नेस » Online Shopping Companies Will Not Offer Huge Discount To Customers
 

ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों को झटका, अब ग्राहकों को भारी छूट का ऑफर नहीं दे पाएंगी ई-कॉमर्स कंपनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 October 2018, 9:46 IST

-कॉमर्स साइट से भारी डिस्काउंट पर ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों के लिए बुरी खबर है. क्योंकि जल्द ही सरकार ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा वस्तुओं के दाम बढ़ा-चढ़ा कर उन पर भारी छूट देने वाले ऑफर्स पर लगाम लगाने की तैयारी कर रही है. सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि ई-कॉमर्स कंपनियां वस्तुओं के वास्तविक मूल्य को बढ़ाकर दिखाने और फिर उस पर डिस्काउंट देने का वादा करती हैं. जो गलत है.

बता दें कि अगर ऑनलाइन कंपनियां अधिकतम खुदरा मूल्य से छेड़छाड़ करेंगी तो इसे व्यावसायिक धोखाधड़ी माना जाएगा, जिसके तहत उन पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगीउपभोक्ता मंत्रालय ने ई-कॉमर्स पर दिशा-निर्देश तैयार कर औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग यानि DIPP को भेज दिए हैं, जो ई-कॉमर्स पर दिशा-निर्देशों को लागू करने पर अंतिम विचार विमर्श कर रहा है. DIPP उपभोक्ता शिकायत के निपटारे की निर्धारित अवधि (2-3 माह) के निर्देश भी इसमें शामिल कर सकता है.

उपभोक्ता मंत्रालय ने DIPP को हाल ही में ई-कॉमर्स से जुड़े दिशा-निर्देश भेजे हैं. इसमें उत्पाद पहुंचाने, उत्पाद वापसी, पैसा वापसी और बदलाव को पारदर्शी बनाने संबंधी नियम शामिल हैं. इन निर्देशों को तैयार करने में मंत्रालय ने क्षेत्र के विशेषज्ञों के सुझावों को भी शामिल किया हैं.

अधिकतम खुदरा मूल्य यानि MRP से छेड़छाड़ पर होगी कार्रवाई ई-कॉमर्स से जुड़े दिशा-निर्देशों को पहले मंत्रालय की ओर से जारी किया जाना था, लेकिन DIPP को ई-कॉमर्स के लिए नोडल प्राधिकार बनाए जाने के बाद मंत्रालय ने दिशा-निर्देशों का जिम्मा उसे सौंप दिया है। दिया. निर्देशों में ई-कॉमर्स कंपनियों की मनमानी, धोखाधड़ी और ठगी से ग्राहकों को बचाने के उपाय शामिल हैं. साथ ही इसके तहत अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP) स्पष्ट करना अनिवार्य किया गया है और MRP बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने और फिर उसमें छूट दिखाने का चलन अब नहीं चलेगा. ऐसा करने को व्यावसायिक धोखाधड़ी माना जाएगा.

ये भी पढ़ें- पेट्रोल-डीजल के बाद अब सस्ती होगी शराब, सरकार के एक फैसले से आधी हो जाएंगी कीमतें

First published: 6 October 2018, 9:40 IST
 
अगली कहानी