Home » बिज़नेस » OPEC and Russia agree to slash oil production
 

OPEC देश करेंगे तेल उत्पादन इतनी बड़ी कटौती, भारत में तेल की कीमतों में लग सकती है आग

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 December 2018, 11:33 IST

ओपेक और उसके सहयोगी देशों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दबाव के बावजूद तेल उत्पादन का फैसला किया है. संयुक्त अरब अमीरात के ऊर्जा मंत्री और ओपेक के अध्यक्ष सुहेल अल मज़ौवेई ने संवाददाताओं से कहा कि इस कटौती से विश्व बाजारों से एक दिन में 1.2 मिलियन बैरल तेल की कमी हो जाएगी. इस खबर के साथ ही अमेरिकी कच्चे तेल की कीमत करीब 5% बढ़कर 54 डॉलर प्रति बैरल हो गई. माना जा रहा है कि इसका भारत पर खासा असर पड़ेगा. एकबार फिर से तेल की कीमतें आसमान छू सकती हैं.

OPEC के सदस्यों ने जनवरी से छह महीने के लिए 800,000 बैरल प्रति दिन अपने उत्पादन को कम करने की बात कही थी. रूस और कार्टेल के बाहर के अन्य उत्पादकों ने प्रति दिन एक अतिरिक्त 400,000 बैरल कटौतीकरने का वादा किया था. ओपेक के सदस्य ईरान, वेनेज़ुएला और लीबिया को कटौती से छूट दी गई है.

 

दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तेल उत्पादक रूस 2016 से तेल आपूर्ति और मांग को संतुलित करने का प्रयास कर रहा है. लेकिन ओपेक ने नवंबर में अमेरिकी कच्चे तेल की कीमतों में 22% की गिरावट के बाद तेल बाजारों को स्थिर करने की कोशिश की है. 2008 में वैश्विक वित्तीय संकट के बाद से यह सबसे खराब महीना दर्ज किया गया. अक्टूबर के आरंभ से विश्व तेल की कीमतें लगभग 31% कम हो गई.

वियना मीटिंग्स में इस बात पर ध्यान केंद्रित किया कि ओपेक और रूस कितना उत्पादन करेगा. सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खालिद अल-फलीह ने कहा कि उत्पादन को कम करने का समूह का निर्णय आर्थिक आवश्यकता से बाहर है और किसी भी राजनीतिक एजेंडा द्वारा संचालित नहीं है."

ये भी पढ़ें : अमेरिकी प्रतिबंध के बावजूद भारत ने ईरान से किया ऐसा समझौता जिससे रुपये में होगा भुगतान

First published: 8 December 2018, 11:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी