Home » बिज़नेस » Over 12000 BPCL employees to go on strike against privatization
 

निजीकरण के खिलाफ हड़ताल पर जाएंगे BPCL के 12000 से ज्यादा कर्मचारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2019, 12:17 IST

सरकारी तेल कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) के लगभग 12000 कर्मचारी गुरुवार को निजीकरण के खिलाफ हड़ताल करेंगे. इन कर्मचारियों का कहना है कि अगर सरकार बीपीसीएल के निजीकरण पर अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं करती है, तो हम अपनी हड़ताल में अन्य तेल कंपनियों के कर्मचारियों के साथ शामिल होंगे जो कई दिनों तक चलेगी.

न्यूज़ वेबसाइट लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार ईमेल प्रतिक्रिया में BPCL के प्रवक्ता ने कहा "BPCL कर्मचारी यूनियनों ने एक हड़ताल नोटिस दिया है कि वे 28 नवंबर को एक दिन की हड़ताल का निरीक्षण करने की योजना बना रहे हैं." 31 मार्च 2019 तक BPCL में कुल कर्मचारियों की संख्या 11,971 थी. BPCL में अस्थायी, संविदात्मक, आकस्मिक आधार पर रखे गए कर्मचारियों की कुल संख्या 22,267 थी.


रिपोर्ट के अनुसार बीपीसीएल के एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया "हम अब सरकार से धोखा महसूस कर रहे हैं क्योंकि हम बीपीसीएल में सरकारी नौकरी के कारण शामिल हुए थे, लेकिन निजीकरण से हमारी आजीविका को खतरा है. हम अपने अधिकारों के लिए विरोध कर रहे हैं."

 

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने 20 नवंबर को बीपीसीएल में सरकार की हिस्सेदारी बेचने की बात कही थी. इस बिक्री प्रक्रिया में पहले संभावित बोलीदाताओं को expression of interest (EoI) जमा करनी होगी. माना जा रहा है कि BPCL के निजीकरण से वैश्विक ऊर्जा की बड़ी कंपनियों को आकर्षित करने की उम्मीद है, यह देखते हुए कि भारत दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला प्रमुख तेल बाजार है.

बिक्री से प्राप्त आय भी सरकार के लिए अपने राजकोषीय घाटे को कम करने में हत्वपूर्ण होगी, जिसमें सरकारी खजाने की कीमत 1.45 ट्रिलियन होगी. सरकार ने कंपनी में अपनी 53.3% हिस्सेदारी बेचने की योजना बनाई है जो 60,000 करोड़ की हो सकता है.

2003 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा इसी तरह के एक प्रयास को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा खारिज कर दिया गया था, जिसने तब यह फैसला सुनाया था कि निजीकरण को संसदीय स्वीकृति की आवश्यकता थी. नरेंद्र मोदी सरकार ने बहुमत हासिल किया है और कानून को निरस्त कर दिया है, जिससे हिस्सेदारी बिक्री का रास्ता साफ हो गया है.

RCom के कर्जदारों ने अस्वीकार किया अनिल अंबानी का इस्तीफा

First published: 26 November 2019, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी