Home » बिज़नेस » P Chidambaram rejects Arun Jaitley’s inflation remarks
 

महंगाई पर जेटली के दावों को पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने नकारा

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2016, 13:50 IST

पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने शुक्रवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली के दावों को नकारा है. जेटली ने गुरुवार को लोकसभा में कहा था कि यूपीए सरकार ने महंगाई दहाई अंक पर छोड़ी थी. चिदंबरम का कहना है कि जेटली गलत तथ्यों को पेश कर रहे हैं.

चिदंबरम ने ट्विटर पर लिखा, "वित्त मंत्री ने कहा कि यूपीए सरकार ने विरासत में दहाई अंक में महंगाई छोड़ी थी. जून 2014 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई 6.77 प्रतिशत पर थी जबकि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मंहगाई दर 5.66 प्रतिशत थी. क्या वित्त मंत्री ने दोनों आंकड़े एक साथ जोड़ लिए? जादुई सांख्यिकी.”

जेटली ने लोकसभा में महंगाई पर हुई चर्चा में कहा था कि एनडीए सरकार को 2014 में यूपीए से विरासत में दहाई अंक में मंहगाई दर मिली थी जिसे काफी हद तक नीचे लाया गया और यह अच्छे मॉनसून के साथ और नीचे जाएगा.

जेटली की टिप्पणी राहुल गांधी के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिए जाने के बाद आई. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि इस सरकार से किसानों को नहीं सिर्फ बड़े उद्योगपतियों को फायदा हुआ है.

यूपीए सरकार और एनडीए सरकार की तुलना करते हुए राहुल ने कहा, "हमारे समय़ में न्यूनतम समर्थन मूल्य और बाजार मूल्य में 30 रुपये का अंतर था और मोदी जी के समय में इसमें 130 रुपये का अंतर है, किसान रोज आत्महत्याएं कर रहे हैं."

राहुल ने कहा कि मोदी सरकार ने अपने समारोह में महंगाई की एक बार भी बात नहीं की जबकि जनता के लिए यह बड़े मुद्दे हैं. उन्होंने पीएम मोदी से सवाल किया कि मोदी एक तारीख बताएं कि महंगाई कब कम होगी.

First published: 29 July 2016, 13:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी