Home » बिज़नेस » Paytm debuts in Japan with launch of PayPay, plans an entry into Europe
 

जापान को कैशलेस बनाने पहुंचा Paytm, यूरोप में एंट्री मारने की तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 12:16 IST

पेटीएम लगातार अपने विस्तार की गति को बढ़ा रहा है और अब कंपनी ने जापान में अपना पहला वॉलेट लॉन्च कर किया है. इसी तरह पेटीएम अब यूरोप में एंट्री करने की योजना बना रहा है. हालांकि चीजें अभी पहले चरण में हैं लेकिन कंपनी यूरोप अगले साल तक यूरोप में में प्रवेश उतर सकती है. भारत में 300 मिलियन मोबाइल वॉलेट उपयोगकर्ताओं वाली कंपनी ने सॉफ्टपेक कॉर्प और याहू जापान निगम द्वारा स्थापित संयुक्त उद्यम पेपे निगम के माध्यम से जापान में परिचालन का विस्तार किया है.

शुक्रवार को एक घोषणा में कंपनी ने कहा कि वह 2018 के बाद बारकोड्स (क्यूआर कोड) का उपयोग करके 'पेपे' स्मार्टफोन भुगतान सेवाएं लॉन्च करेगी. पेपे कॉर्पोरेशन सॉफ्टबैंक विजन फंड पोर्टफोलियो कंपनी है. जापानी टेलीकॉम विशाल मोबाइल भुगतान में पेटीएम की तकनीक और विशेषज्ञता का उपयोग करेगी.

 

जापान में अभी भी नकद से ही भुगतान ज्यादा होता है. वर्तमान कैशलेस भुगतान अनुपात 20 प्रतिशत पर शेष है. नतीजतन जापानी सरकार 2025 तक कैशलेस भुगतान अनुपात को 40 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए कदम उठा रही है. यह वैश्विक स्तर पर उच्चतम स्तर - 80 प्रतिशत का दीर्घकालिक लक्ष्य है. इन प्रयासों की सहायता के लिए सॉफ्टबैंक और याहू जापान ने जून 2018 में पेपे निगम की स्थापना की.

यह जापान में नकद रहित भुगतान के व्यापक उपयोग को बढ़ावा देगा और उपभोक्ताओं और दुकानों दोनों को अत्यधिक सुविधाजनक सेवाएं प्रदान करेगा. पेटीएम ने भारत में डिजिटल भुगतान पारिस्थितिक तंत्र की अगुआई की है और बारकोड (क्यूआर) आधारित तकनीक का उपयोग किया है, जो 300 मिलियन से अधिक ग्राहकों और 8 मिलियन व्यापारियों को मोबाइल भुगतान सेवा प्रदान करता है.

पेटीएम के यूरोप में प्रवेश करने के संकेत पिछले साल कनाडा में लॉन्च होने पर वन97 संचार के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने दिए थे. एक साक्षात्कार में शर्मा ने कहा था कि वह दुनिया के लिए पेटीएम ऐप बनाना चाहता है और संकेत दिया था कि वह वह जापान और यूरोप में परिचालन शुरू करना चाहते हैं.

पेपे कॉरपोरेशन, सॉफ्टबैंक, याहू जापान और पेटीएम सॉफ्टबैंक के ग्राहक आधार और 'याहू सहित उपयोगकर्ताओं की संख्या का विस्तार करेंगे. वॉलेट में लगभग 40 मिलियन खाते शामिल हैं.

ये भी पढ़ें : PM मोदी के रोजगार देने के आंकड़ों में बाल काटने वालों का कितना बड़ा योगदान

First published: 28 July 2018, 12:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी