Home » बिज़नेस » Petrol Diesel Price Today decreased after 7 days, know the rate of your city
 

खुशखबरी: पेट्रोल-डीजल के दामों में 7 दिन बाद हुई कटौती, जानिए कितना सस्ता हो गया पेट्रोल

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 January 2019, 7:41 IST

Petrol Diesel Price Today On 29 January: पेट्रोल डीजल के दामों में लगातार 7 दिनों की स्थिरता के बाद आज देश के मुख्य महानगरों में कटौती देखने को मिली है. बीते 7 दिनों से पेट्रोल और डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया जा रहा था. गौरतलब है कि तेल के दामों में कोई बदलाव न होने का कारण अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड आॅयल की कीमतों में हुई कमी बताया जा रहा था. लेकिन हाल ही में क्रूड आयल के दाम में आई कमी और डॉलर के मुकाबले मजबूत आते रुपये के कारण पेट्रोल डीजल के दाम में एक बार फिर कटौती देखने को मिली है.

कितना सस्ता हुआ पेट्रोल

7 दिनों की स्थिरता के बाद आज देश के मुख्य महानगरों में पेट्रोल के दाम में औसतन 8 पैसे प्रति लीटर की कटौती देखने को मिली. देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 8 पैसे प्रति लीटर की कटौती के बाद आज दिल्ली में पेट्रोल के दाम 71.19 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं. वहीं कोलकाता आैर मुंबर्इ में भी पेट्रोल के दाम में आज कमी देखने को मिली है. कटौती के बाद इन दोनों शहरों में पेट्रोल के दाम क्रमशः 73.28 आैर 76.82 रुपए प्रति लीटर हो गए हैं.

वहीं बात अगर चेन्नर्इ की करें तो चेन्नई में पेट्रोल के दाम में 9 पैसे प्रति लीटर की कटौती दर्ज की गई है. कटौती के बाद चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल के लिए 73.90 रुपए चुकाने होंगे.

कितना कम हुआ डीजल का दाम

लगातर 7 दिनों से बनी हुई स्थिरता के बाद आज देश के मुख्य शहरों में डीजल के दाम में औसतन 11 पैसे प्रति लीटर कटौती देखी गयी है. कटौती के बाद आज राजधानी दिल्ली में डीजल का दाम घटकर 65.89 रुपये प्रति लीटर हो गया है. वहीं कोलकाता, मुंबर्इ आैर चेन्नर्इ में डीजल के दाम में कटौती के बाद इन तीनों शहरों में डीजल एक दाम क्रमशः 67.67, 69 आैर 69.61 रुपए प्रति लीटर हो गए हैं.

डॉलर के मुकाबले मजबूत हुआ रूपया, कच्चे तेल के दाम में नरमी से मिला सपोर्ट

गौरतलब है की पेट्रोल डीजल के दाम में आज लगातार 7 दिनों की स्थिरता के बाद ये कटौती देखने को मिली है. इंटरनेशनल मार्किट में क्रूड आयल के दाम में कमी आने के कारण भारत में तेल के दामों में ये नरमी देखी जा रही है. इसी एक साथ डॉलर के मुकाबले रुपये का तेजी पकड़ना भी इसका एक मुख्य कारण बताया जा रहा है.

First published: 29 January 2019, 7:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी