Home » बिज़नेस » Petrol, diesel prices continue to decline on Saturday as oil prices fall
 

शनिवार को भी जारी रही पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट, अब ये है प्रमुख शहरों में कीमतें

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 December 2018, 9:25 IST

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में शनिवार को एकबार फिर से कटौती देखी गई. यह कमी वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में कमी के कारण हुई. देश के प्रमुख शहरों में पेट्रोल की कीमत में 30 पैसे की कमी आई जबकि डीजल ने भी गिरावट देखी गई. इंडियन ऑयल कॉर्प के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल की कीमत 72.53 रुपये (34 पैसे प्रति लीटर) थी. इससे पहले मुंबई में पेट्रोल की कीमतें 78.0 9 रुपये (34 पैसे की गिरावट) प्रति लीटर, कोलकाता में 74.55 रुपये (33 पैसे की कमी) और चेन्नई में गुरुवार को 75.26 रुपये (36 पैसे) की कमी आई है. डीजल की कीमतों में में भी कमी जारी रही.

दिल्ली में डीजल की कीमत 67.35 रुपये (37 पैसे की गिरावट) प्रति लीटर थी. इसी प्रकार, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में डीजल की कीमतें 70.50 (3 9 पैसे की गिरावट) प्रति लीटर, 69.08 रुपये (49 पैसे की कमी) और 71.12 रुपये (40 पैसे की गिरावट) प्रति लीटर हो गई.

 

राज्य के स्वामित्व वाली इंडियन ऑयल कॉर्प (आईओसी) ने गुरुवार को कहा था अंतरराष्ट्रीय तेल दरों में कमी के साथ पिछले छह हफ्तों में पेट्रोल की कीमत 9.6 रुपये प्रति लीटर और डीजल 7.56 रुपये की गिरावट आई है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 17.5 अक्टूबर को 82.83 रुपये प्रति लीटर के मुकाबले 72.53 रुपये प्रति लीटर है. डीजल की कीमत 17.30 रुपये प्रति लीटर 75.6 9 रुपये से नीचे लीटर 67.35 रुपये प्रति लीटर है.

आईओसी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय में पेट्रोल और डीजल की औसत कीमतें, साथ ही पिछले 15 दिनों के लिए यूएसडी-रुपया विनिमय दर, पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमत निर्धारित करते समय 15 दिनों पर विचार किया जाता है. पिछले 45 दिनों में पेट्रोल और डीजल की घरेलू कीमतों में निरंतर गिरावट आई है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में कमी आई है.

ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत सोमवार को 59 महीने प्रति बैरल पर बंद हुई, जो 13 महीने कम है. पिछले महीने की शुरुआत में केंद्र ने एक्साइज ड्यूटी में 1.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती की घोषणा की. इसके अतिरिक्त, राज्य के स्वामित्व वाली तेल विपणन कंपनियों को 1 लीटर प्रति पेट्रोल और डीजल की कीमतों को कम करने के लिए अनिवार्य किया गया था.

First published: 1 December 2018, 9:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी