Home » बिज़नेस » Petrol Price: Petrol price reaches an all-time high, record hike in international prices
 

Petrol Price : पेट्रोल की कीमत अबतक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची, अंतरराष्ट्रीय कीमतों में जोरदार बढ़ोतरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 January 2021, 11:53 IST

Petrol Price Today : भारत में पेट्रोल की कीमतें बुधवार अबतक के सबसे उच्च स्तर पर पहुंच गई है. दिल्ली में एक लीटर परिवहन ईंधन की बिक्री 83.97 रुपये प्रति लीटर पहुंच गई है. 29 दिनों तक स्थिर रहने के बाद बुधवार को पेट्रोल की कीमत में 26 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई. राष्ट्रीय राजधानी में 74.12 प्रति लीटर पर बिकने वाले डीजल की कीमत में भी 25 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई है. जब कोरोना वायरस महामारी ने वैश्विक ऊर्जा मांग को प्रभावित किया है ऐसे और टीकाकरण चल रहा है, ऐसे में अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आया है. जबकि ब्रेंट 53.86 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था, पश्चिम टेक्सास इंटरमीडिएट 50 डॉलर प्रति बैरल था.

कच्चे तेल की कीमतों में प्रति डॉलर की बढ़ोतरी से भारत का तेल आयात बिल सालाना आधार पर 10,700 करोड़ बढ़ जाता है. दिल्ली में 4 अक्टूबर 2018 को पेट्रोल 84 प्रति लीटर के उच्च मूल्य पर पहुंच गया था. इस साल 30 जुलाई को राष्ट्रीय राजधानी में डीजल की सभी उच्च कीमत 81.94 प्रति लीटर थी. भारत में पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें वैश्विक कीमतों पर निर्भर करती हैं.


आज पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ गए हैं. सरकारी तेल कंपनियों (Government oil companies) ने पेट्रोल-डीजल के दाम 29 दिन तक स्थिर रखने के बाद आज बढ़ा दिए हैं. दिल्ली में आज पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी हो गई है. दिल्ली में आज पेट्रोल के दाम 83.71 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 83.97 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं. डीजल के दाम 73.87 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 74.12 रुपये प्रति लीटर हो गई है. मुंबई में पेट्रोल के दाम 26 पैसे बढ़कर 90.60 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं. डीजल के दाम 27 पैसे बढ़कर 80.78 रुपये प्रति लीटर हैं.

बुधवार की कीमतों में बढ़ोतरी पेट्रोलियम निर्यातक देशों (ओपेक) के 13वें संगठन की पृष्ठभूमि में आया. ओपेक-प्लस के दिसंबर के फैसले में जनवरी से कच्चे तेल का उत्पादन 500,000 बैरल प्रतिदिन बढ़ाने का था. ओपेक + निर्णय भारत के लिए महत्व रखता है, क्योंकि ओपेक वैश्विक उत्पादन का लगभग 40 फीसदी और भारत के कच्चे तेल के आयात का 83 फीसदी है. भारत वैश्विक स्तर पर तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है. भारत ने 2019-20 में कच्चे तेल के आयात पर 101.4 बिलियन डॉलर और 2018-19 में 111.9 बिलियन डॉलर खर्च किए.

भारतीय बास्केट की क्रूड की लागत, जिसमें ओमान, दुबई और ब्रेंट क्रूड शामिल हैं, क्रमशः FY18 और FY19 में 56.43 डॉलर और 69.88 डॉलर प्रति बैरल है. वित्त वर्ष 20 में यह 69.88 डॉलर प्रति बैरल था. महामारी फैलने के साथ अप्रैल में कीमत 19.90 डॉलर, मई में 30.60 डॉलर, जून में 40.63 डॉलर, जुलाई में 43.35 डॉलर, अगस्त में 44.19 डॉलर बैरल और सितंबर में 41.35 डॉलर प्रति बैरल हो गई.

Gold Price Today: सोने की कीमतों में आयी बड़ी गिरावट जानिए आज प्रमुख शहरों में 10 ग्राम की कीमत

First published: 6 January 2021, 11:53 IST
 
अगली कहानी