Home » बिज़नेस » petrol pump owners threaten strike over daily price change to petrol diesel from 16 june.
 

पेट्रोल पंप एसोसिएशन: 24 घंटे में पेट्रोल-डीजल के दाम तय करना नोटबंदी जैसा घातक

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2017, 12:23 IST

देश भर में 16 जून से आपके वाहनों में भरे जाने वाले पेट्रोल-डीज़ल की कीमत हर 24 घंटे में बदल जाएगी. देश की आम जनता से लेकर पेट्रोल पंप मालिक और ऑयल इंडस्ट्री इस फैसले को लेकर दुविधा में है. पेट्रोल पंप मालिक इस बड़े बदलाव के लिए किसी भी कीमत पर तैयार नहीं दिख रहे हैं.

पेट्रोल पंप मालिकों ने इस फैसले को सरकार का बिना तैयारी के लिया गया नोटबंदी जैसा एक और फैसला बताया है. पेट्रोल पंप मालिकों ने इस मसले पर मंगलवार को ऑयल इंडस्ट्री के साथ बैठक भी की है. एसोसिएशन ने साफ कहा है कि अगर सरकार उनकी चिंताएं सुनकर कोई ठोस समाधान नहीं करती, तो सारे मैनुअल पेट्रोल पंप ओनर्स हड़ताल पर जाने के लिए मजबूर होंगे और ऐसी स्थिति में ऑटोमेटेड भी उनका साथ देंगे.

पेट्रोल पंप मालिक एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय बंसल ने कहा, "देश भर के सभी पंपों के पूरी तरह ऑटोमेशन में आए बिना ये कदम बहुत घातक होगा. मैनुअली मशीन में नया रेट डालने की प्रक्रिया में पूरा एक घंटा लगता है. अब अंदाजा लगाइए कि जो लोग रात के 11.50 पर पेट्रोल डलवाने आएंगे, जो कि आम तौर पर थोक में डीजल लेने वाले ट्रक मालिक होते हैं, वह एक दिन पहले के रेट पर डीजल मांगेंगे, जबकि रेट बदल चुका होगा. इससे रोज़ाना पेट्रोल पंप झगड़ों का अड्डा बन जाएंगे."

पेट्रोल पंप एसोसिएशन का कहना है कि जब तक सभी पेट्रोल पंप पूरी तरह कंप्यूटराइज्ड न हों और वह सीधे कंपनी के सर्वर से न जुड़ जाएं, तब तक यह करना ठीक नहीं है. बंसल ने बताया कि देश में कुल 56 हजार पेट्रोल पंप हैं और उनमें से अब तक सिर्फ 10 हजार पंप पूरी तरह ऑटोमेटेड हैं. अब बाकी बचे 46 हजार पंपों को ऑटोमेटेड करने में बहुत वक्त लगेगा.

First published: 13 June 2017, 12:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी