Home » बिज़नेस » PM Modi Is In Favor To Give Second Tenure To RBI governor Raghuram Rajan
 

मोदी और राजन के बीच रीझने-मनाने का यह खेल क्या है?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
(कैच हिंदी)
QUICK PILL
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रघुराम राजन को आरबीआई का गवर्नर बनाए रखने के पक्ष में हैं. वित्त मंत्री जेटली भी कुछ ऐसा ही संकेत दे चुके हैं.
  • लेकिन राजन, जिनका कार्यकाल सितंबर में खत्म हो रहा है, ने दूसरी बार गवर्नर नहीं बनने की इच्छा व्यक्त की थी.
  • इस बहस का एक तीसरा कोण हैं सुब्रमण्यम स्वामी जिन्होंने राजन पर लगातार हमले कर इस बहस को हवा दी थी.

आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन का कार्यकाल सितंबर महीने में समाप्त हो रहा है और उन्होंने इसके बाद अमेरिका जाने की इच्छा जताई है. राजन दूसरी बार आरबीआई गवर्नर का पद नहीं संभालना चाहते हैं.

खबरों के मुताबिक राजन ने केंद्र सरकार को बता दिया है कि वह सितंबर में कार्यकाल खत्म होने के बाद वापस अमेरिका जाना चाहते हैं. राजन के करीबी सूत्रों के मुताबिक उनकी योजना अमेरिकी यूनिवर्सिटी जाने की है जहां वह भारतीय अर्थव्यवस्था पर शोध करना चाहते हैं.

और पढ़ें: अर्थव्यवस्था की ऊंची उड़ान, जीडीपी 7.9 फीसदी पार

हाल ही में सुब्रमण्यम स्वामी ने राजन को आरबीआई गवर्नर के पद से हटाए जाने की मांग कर विवाद खड़ा कर दिया था. स्वामी ने कहा था कि राजन को तत्काल गवर्नर के पद से बर्खास्त कर देना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रघुराम राजन को दो साल का कार्यकाल विस्तार दिए जाने के पक्ष में हैं

हालांकि इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजन को गवर्नर बनाए रखने के पक्ष में हैं. मोदी चाहते हैं कि राजन सितंबर में कार्यकाल पूरा होने के बाद दूसरी बार आरबीआई गवर्नर की जिम्मेदारी संभालें. 

राजन को वित्त मंत्री अरुण जेटली का भी समर्थन है. खबरों के मुताबिक जेटली ने प्रधानमंत्री को बताया है कि अगर राजन को बर्खास्त किया जाता है तो इससे पूरी दुनिया में भारतीय बाजार और अर्थव्यवस्था के बारे में गलत संदेश जाएगा.

और पढ़ें: विकासशील नहीं निम्न-मध्यम आय वाला देश होगा भारत

राजन को कई उद्योगपतियों और थिंक टैंक का भी समर्थन मिला है. ज्यादातर लोगों की राय रही है कि राजन एक बेहतरीन अर्थशास्त्री हैं. उनका कहना है कि राजन उन सुधारों के समर्थक हैं जिससे भारत को तेज ग्रोथ बनाए रखने में मदद मिलेगी.

इस सारे विवाद की शुरुआत विवादप्रिय शख्सियत वाले नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने की थी. हाल ही में भाजपा के कोटे से राज्यसभा सांसद बने स्वामी ने प्रधानमंत्री को दो पत्र लिखकर राजन को बर्खास्त करने की मांग की थी. उन्होंने मीडिया में लगातार बयानबाजी करके राजन पर अभारतीय होने का आरोप भी लगाया था.

First published: 1 June 2016, 7:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी