Home » बिज़नेस » PNB record quaterly loss after Nirav modi fraud scam
 

नीरव मोदी घोटाले के बाद PNB ने बनाया बैंकिंग इतिहास के सबसे बड़े घाटे का रिकॉर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2018, 13:57 IST

पंजाब नेशनल बैंक को चौथी तिमाही में बड़ा झटका लगा है. यह झटका भारतीय बैंकिंग सेक्टर का अब तक का सबसे बड़ा तिमाही नुकसान है. पीएनबी को 31 मार्च को खत्म हुई इस तिमाही में 13,417 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है. यह अब तक का किसी भी बैंक को किसी तिमाही में हुआ सबसे बड़ा घाटा है. इससे पहले पीएनबी के घाटे का पुराना रिकॉर्ड जनवरी-मार्च 2016 तिमाही का था. तब उसे एक तिमाही में 5,000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था.

ये भी पढ़ें-PNB Fraud: नीरव मोदी केस में CBI ने दाखिल की चार्जशीट, PNB की पूर्व चीफ उषा पर भी लगे आरोप

पीएनबी के बैड लोन यानी नॉन-परफॉर्मिंग ऐसेट्स (एनपीए) मार्च 2018 तिमाही के अंत में बढ़कर 86,620 करोड़ रुपये हो गई है. वहीं इससे सालभर पहले यह आंकड़ा 55,370 करोड़ रुपये का था. इसी दौरान नेट एनपीए 32,702 करोड़ रुपये से बढ़कर 48,684 करोड़ रुपये हो गया.

वहीं इस साल मार्च के अंत में एनपीए बढ़कर पूरे कर्ज का 18.38% पर पहुंच गया. इससे सालभर पहले इनका यह 12.53% पर था. वहीं नेट एनपीए भी पिछले साल के तुलना में 7.81% से बढ़कर 11.24% हो गया है. साथ हीं एनपीए के लिए प्रोविजनिंग चार गुना बढ़कर 16,203 करोड़ रुपये हो गई है. सालभर पहले यह 41,90 करोड़ रुपये थी.

ये भी पढ़ें-अब इस बैंक में निकला नीरव मोदी, लगाया 155 करोड़ रुपये का चूना

बता दें कि आरबीआई के निर्देश पर नीरव मोदी घोटाले के कारण पंजाब नेशनल बैंक को मार्च तिमाही में 7,178 करोड़ रुपये की प्रोविजनिंग करनी पड़ी. इसके साथ हीं उसे अप्रैल से दिसंबर तक की अगले तीन तिमाहियों में 7,178 करोड़ रुपये की प्रवीजनिंग करनी होगी. यानी, आशंका है कि अगले नौ महीनों तक बैंक को घाटे का ही सामना करना पड़े.

First published: 16 May 2018, 13:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी