Home » बिज़नेस » PNB scam: ED refuses to share details of Nirav Modi, Mehul's seized assets
 

'नीरव मोदी और चोकसी को वापस लाने की कोशिश में अभी तक कितना खर्च हुआ?'

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2018, 16:29 IST

पंजाब नेशनल बैंक में करोड़ों के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी से जब्त सम्पति की जानकारी देने से प्रवर्तन निदेशालय ने इंकार कर दिया है. आरटीआई अधिनियम के तहत इसकी जानकारी मांगी गई थी. हालांकि इससे पहले ट्विटर पर इसकी जानकारी सार्वजनिक हो चुकी है. जिसमें  कहा गया था कि इस मामले में जब्त की गई संपत्ति 76.64 बिलियन के लगभग की हो सकती है.

पुणे स्थित एक आरटीआई कार्यकर्ता विहार धूर्वे ने चोकसी और मोदी को वापस लाने के लिए भारत और विदेशों में अधिकारियों की यात्रा पर हुए भुगतान, वकीलों के परामर्श शुल्क को लेकर ईडी से जानकारी मांगी थी.

केंद्रीय एजेंसी ने जनवरी के पहले सप्ताह में देश से भागने वाले नीरव मोदी और मेहुल चोकसी को वापस लाने के प्रयासों पर हुए खर्चे का खुलासा करने से इनकार कर दिया. नीरव मोदी जो कि दावोस में प्रधानमंत्री मोदी के साथ एक सामूहिक तस्वीर में दिखे थे. इस तस्वीर को जनवरी में पीआईबी द्वारा जारी किया गया था.

आरटीआई अधिनियम की धारा 24 के तहत प्रवर्तन निदेशालय को दी गई शक्तियों में कथित भ्रष्टाचार से संबंधित जानकारी शामिल नहीं है. सीबीआई ने चोकसी और मोदी को भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के आरोपों पर बुक किया था. धूर्वे ने चोकसी और मोदी द्वारा कथित रूप से किए गए घोटाले का विवरण मांगा था, जिसमें पीएनबी के एलोयू को शामिल किया गया था.

आरटीआई के जवाब में कहा गया कि आवेदन में उनके द्वारा मांगी गई जानकारी आरटीआई अधिनियम की दूसरी अनुसूची के साथ धारा 24 के तहत दी गई छूट के मुताबिक प्रदान नहीं की जा सकती है.

ये भी पढ़ें :  वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट की डील को रोकने के लिए अदालत जाने की तैयारी

First published: 6 May 2018, 16:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी