Home » बिज़नेस » PNB scam: LIC not even escaped by Nirvav Modi's fate, a shock of 1400 crore
 

पीएनबी घोटाला : LIC भी नहीं बच पायी नीरव मोदी के फ्रॉड से, लगा 1400 करोड़ का झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2018, 11:03 IST

11,400 करोड़ रुपए के बैंकिंग धोखाधड़ी में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कंपनियां द्वारा कथित तौर पर पंजाब नेशनल बैंक और अन्य बैंकों को जोरधार झटका दिया है. यह घोटाला सामने आने के बाद पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और गीतांजली के शेयरों में जोरदार गिरावट आयी है. इस गिरावट का असर एलआईसी भी पड़ा है. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार पिछले तीन दिन में एलआईसी को 1400 करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है.

 

एलआईस इन चारों संस्थाओं में अकेले सबसे बड़ी संस्थागत निवेशक है. एलआईसी के पीएनबी में 13.93 फीसदी, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में 13.24 फीसदी और इलाहाबाद बैंक में 13.17 फीसदी हिस्सेदारी है. जबकि 31 दिसंबर 2017 को गीतांजलि जेम्स में इसका 2.88 फीसदी हिस्सा है.

इन सभी चारों संस्थाओं में एलआईसी की होल्डिंग सबसे बड़ी संस्थागत होल्डिंग है और इसलिए धोखाधड़ी के प्रकाश में आने के बाद शेयर की कीमतों में गिरावट के बाद इन कंपनियों में निवेशक के रूप में सबसे बड़ा नुकसान हुआ है.

ईडी ने नीरव मोदी समेत इस घोटाले से जुड़े लागों के ठिकानों पर छापा मारकर 5100 करोड़ रुपये के हीरे जवाहरात जब्त किए हैं. ईडी ने सीबीआई की एफआईआर के आधार पर मामला दर्ज किया है. इस तरह कर्ज देनें वालों में केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक भी शामिल हैं.

11,000 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले में 6 दूसरे बैंक भी शामिल हैं। इन 6 बैंकों ने पीएनबी के लेट ऑफ अंडरस्टैंडिंग के आधार पर ही बैंकों ने नीरव मोदी की कंपनियों को कर्ज दिया था, जिसके आधार पर यूनियन बैंक, एक्सिस बैंक, एसबीआई की विदेशी ब्रांच ने कर्ज दिया.

First published: 17 February 2018, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी