Home » बिज़नेस » PNB Scam: Non-Bailable Warrant Issue Against Nirav Modi and Mehul Choksi by CBI Special court Mumbai
 

PNB घोटाला: CBI ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ निकाला गैरजमानती वारंट

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2018, 19:05 IST

देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के आरोपी  नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने गैरजमानती वारंट (Non-Bailable Warrant) जारी कर दिया है. PNB में 13 हजार करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी कर दोनों मामा-भांजे देश छोड़कर फरार हैं. गौरतलब है कि CBI और ED  के बार-बार नोटिस भेजने पर भी नीरव और मामा मेहुल ने वापिस आने से इंकार कर दिया.

सीबीआई के आग्रह पर मामले की गंभीरता को देखते हुए सीबीआई की विशेष अदालत ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया. पिछले महीने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट (PMLA) की कोर्ट ने भी इन दोनों केचोकसी खिलाफ गैरजमानती वारंट इश्यू किया था.

ये भी पढ़ें -बैंक NPA : RBI की पकड़ में आये 40 चार्टर्ड अकाउंटेंट, किया गैर कानूनी काम

सीबीआई ने इससे पहले पीएनबी घोटाले मामले में में को RBI के पूर्व डिप्टी गवर्नर एचआर खान से पूछताछ की थी. यूपीए सरकार के दौरान सोना आयात नीति में छूट दी गई थी, जिससे अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसीको फायदा पहुंचा था. रिज़र्व बैंक के अधिकारियों के मुताबिक पूर्व डिप्टी गवर्नर से यूपीए सरकार की सोना आयात नीति(Gold Import Policy) के बारे में पूछताछ की गई.

नीरव मोदी ने 6 जनवरी को देश छोड़ दिया था और मोदी के मामा चौकसी ने 4 जनवरी को देश छोड़ कर भाग गया. सीबीआई को दी गई विभिन्न शिकायतों में पीएनबी ने दावा किया है कि उसके अधिकारियों द्वारा मोदी को कई लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOU) जारी किए गए, जिससे बैंक को भारी नुकसान हुआ है. पीएनबी ने मोदी और उसके समूह की कंपनियों द्वारा 13,500 करोड़ रुपये के घोटाले की सूचना दी थी, जिससे देश के बैंकिंग प्रणाली में बड़े पैमाने पर उथलपुथल मच गया.

First published: 8 April 2018, 19:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी