Home » बिज़नेस » Rafale Deal: Anil Ambani firm Reliance Defence was imperative and mandatory says dassault document
 

राफेल डील: रिलायंस डिफेंस पर फ्रेंच वेबसाइट ने डसॉल्ट के दस्तावेजों से किया बड़ा खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 October 2018, 12:43 IST

राफेल डील को लेकर हर रोज बड़े खुलासे हो रहे हैं. अब फ्रांस की मीडिया ने खुलासा किया है कि राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ड एविएशन को ऑफसेट पार्टनर के तौर पर अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस के अलावा कोई विकल्प ही नहीं दिया गया था. ऑफसेट पार्टनर को लेकर ये खुलासा सरकार के लिए काफी मुश्किलें खड़ी करने वाला है. 

बता दें कि इससे पहले सरकार ने सफाई में कहा था कि 59,000 करोड़ में हुए 36 विमानों के इस सौदे में डसॉल्ट अपना ऑफसेट पार्टनर चुनने के लिए स्वतंत्र था. लेकिन फ्रांस की न्यूज वेबसाइट मीडियापार्ट ने अपने खुलासे में कहा है उसके हाथ डसॉल्ट कंपनी के वो दस्तावेज लगे हैं जिनसे साबित होता है कि उन्हें आखिरी विकल्प के तौर पर सिर्फ और सिर्फ रिलायंस का नाम दिया गया था.

हालांकि डसॉल्ट ने अपनी सफाई में कहा है कि राफेल डील में ऑफसेट पार्टनर का होनी जरूरी था, लेकिन इसके लिए पार्टनर के तौर पर सिर्फ रिलायंस कंपनी के विकल्प जैसी बात गलत है. डसॉल्ट ने कहा कि किसी भी कंपनी को चुनने के लिए डसॉल्ट स्वतंत्र था.

बता दें कि मीडियापार्ट वही न्यूज वेबसाइट है जिसने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलोंद का वो बयान सामने लाया था, जिसमें दावा किया गया था कि भारत सरकार ने असल में उनके ऊपर रिलायंस डिफेंस को आखिरी विकल्प के तौर पर थोपा था. अब इसी वेबसाइट ने एक बार फिर से खुलासा किया है कि डसॉल्ट के आंतरिक दस्तावेजों में साबित होती है कि सौदे में रिलायंस डिफेंस का नाम इकलौता विकल्प था.

First published: 11 October 2018, 12:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी