Home » बिज़नेस » Raghuram Rajan has give big Relief to Modi Government, said congress lead UPA is Responsible For Banking Bad Loan NPA
 

मनमोहन सरकार में हुआ ये घोटाला है बैंकों के NPA के लिए जिम्मेदार : रघुराम राजन

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 September 2018, 12:59 IST

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने नॉन पर्फोर्मिंग एसेट्स (NPA) को लेकर बड़ा बयान दिया है. राजन ने कहा है कि मनमोहन सिंह की अगुवाई में चली यूपीए सरकार के समय हुए कोयला घोटाला और विभिन्न प्रसाशनिक समस्याएं ही बैंकों के डूबे कर्ज यानि NPA की बड़ी वजह है.

बैंकिंग सेक्टर के डूबते कर्ज (NPA) को लेकर बीजेपी और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. ऐसे में पूर्व गवर्नर का ये बयान मोदी सरकार के लिए लिए बड़ी राहत की बात है. रघुराम राजन ने यह भी कहा कि इसके बाद एनडीए सरकार के समय भी कई फैसले लेने में हुई  देरी भी एक कारण है.

RBI के पूर्व मुखिया के इस बयान के बाद कांग्रेस के लिये बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है क्योंकि एनपीए बढ़ने के मुद्दे पर कांग्रेस हमेशा मोदी सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहराती रही है जबकि बीजेपी यूपीए सरकार को दोषी ठहराती है.

आकलन समिति के अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी को दिये नोट में राजन ने कहा, ‘‘कोयला खदानों के संदिग्ध आबंटन के साथ जांच की आशंका जैसे राजकाज से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के कारण संप्रग सरकार तथा उसके बाद राजग सरकारों दोनों में सरकारी निर्णय में देरी हुई.’’ राजन ने कहा कि इससे परियोजना की लागत बढ़ी और वे अटकने लगी. इससे कर्ज वापिस करने में समस्या पैदा हुई.

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही पीएम मोदी ने बैंकिंग सेक्टर में डूबे कर्ज की समस्या के लिए यूपीए सरकार केदौर में 'फोन पर कर्ज' के रुप में हुए घोटाले को जिम्मेदार ठहराया था. पीएम मोदी ने कहा कि ‘नामदारों’ के इशारे पर बांटे गए कर्ज की एक-एक पाई वसूली की जाएगी.

उन्होंने कहा कि चार-पांच साल पहले तक बैंकों की अधिकांश पूंजी केवल एक परिवार के करीबी धनी लोगों के लिए रिज़र्व रहती थी. आजादी के बाद से साल 2008 तक कुल 18 लाख करोड़ रुपये के लोन दिए गए थे लेकिन उसके बाद के 6 वर्षों में यह आंकड़ा 52 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया.

First published: 11 September 2018, 12:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी