Home » बिज़नेस » Raghuram Rajan leaves repo rate unchanged at 6.5%
 

आरबीआई गवर्नर राजन ने आखिरी बार पेश की मौद्रिक समीक्षा, नहीं घटी ब्याज दरें

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2016, 14:22 IST

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) गवर्नर रघुराम राजन ने अपने कार्यकाल की आखिरी मौद्रिक नीति समीक्षा में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया. राजन ने रेपो दर में कोई बदलाव नहीं करते हुए इसे 6.5 प्रतिशत पर स्थिर रखा है. नकद आरक्षी अनुपात (सीआरआर) को भी चार प्रतिशत पर स्थिर रखा गया है.

राजन का तीन साल का कार्यकाल चार सितंबर को पूरा हो जाएगा. आरबीआई ने पिछली बार सात जून को भी नीतिगत समीक्षा में प्रमुख ब्याज दरों में बदलाव नहीं किया था.

रेपो दर वह ब्याज दर है, जिस पर केंद्रीय बैंक बैंकों को उनकी फौरी जरूरत के लिए धन उधार देता है. यह इस समय 6.5 प्रतिशत है. इसी के अनुसार रिवर्स रेपो छह प्रतिशत पर बनी हुई है.

राजन ने उम्मीद जताई है कि जीएसटी लागू होने से अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक असर पड़ेगा. खुदरा महंगाई दर पांच फीसदी रहने का अनुमान है, तो विकास दर के 7.6 फीसदी रहने की उम्मीद है.

गौरतलब है कि वित्त मंत्रालय ब्याज दर तय करने के लिए नई मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) गठित करने की अंतिम प्रक्रिया में है. मौद्रिक नीति की पहल अब छह सदस्यीय एमपीसी करेगी, जिसमें रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार के तीन तीन प्रतिनिधि होंगे. एमपीसी का अध्यक्ष आरबीआई गवर्नर होगा, लेकिन उसके बाद मर्जी से ब्याज दर तय करने का अधिकार नहीं होगा.

First published: 9 August 2016, 14:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी