Home » बिज़नेस » Railway minister Piyush Goyal says private sector can operate some railway lines with licence
 

रेल मंत्री का बड़ा बयान, कहा- प्राइवेट कंपनियां कर सकती है रेलवे का संचालन

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2019, 12:11 IST

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण रेलवे में निजी निवेश की बात कही थी. अब रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रेलवे के कुछ सेक्शन को खंडों को निवेश के लिए खोला जा सकता है. रेल मंत्री ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर लाइसेंस फीस चुकाकर इन खंडों पर अपना रेल संचालित कर सकता है. भारतीय रेलवे के विकास के लिए 50 लाख करोड़ रुपये का फंड जुटाने हेतु प्राइवेट सेक्टर से इन्वेस्टमेंट आना जरुरी है ताकि अगले 5 सालों में रेलवे का आधुनिकीकरण हो और देशभर में रेलवे की सुविधा का विस्तार हो सके.

रेल बजट: यात्रियों को मिला बड़ा तोहफा, आदर्श किराया कानून से सस्ती होंगी यात्राएं

 

 

भारतीय रेल का निजीकरण नहीं

गोयल वह गोवा में बीजेपी की सदस्यता अभियान का आगाज करने पहुंचे थे. उन्होंने कहा कि सरकार सभी विकल्पों पर खुले दिमाग से विचार कर रही है ताकि निजी क्षेत्र से निवेश आकर्षित किया जा सके. लेकिन पियूष गोयल ने जोर देकर कहा कि भारतीय रेल का निजीकरण नहीं किया जाएगा. गौरतलब है कि रेलवे कर्मचारी यूनियन, विपक्षी पार्टियां और कई संगठन रेलवे के निजीकरण का विरोध करते रहे हैं.

निजी निवेश से होगा ये फायदा

रेलवे के विकास के मुद्दे पर पियूष गोयल ने कहा, ''अलग-अगल मॉडल है, जिसे हम फॉलो कर सकते हैं. हम भारतीय रेल का विकास चाहते हैं. कुछ खंड हो सकते हैं जहां निजी क्षेत्र अपनी लाइन बिछा सकता है हमें कोई समस्या नहीं होगी. निजी कंपनियां हमसे लाइसेंस ले सकती हैं. इससे रेलवे का राजस्व बढ़ेगा अगर इसका राजस्व बढ़ेगा तो यात्रियों को यह बेहतर सुविधा मुहैया करने में सक्षम होगी.'

First published: 7 July 2019, 12:11 IST
 
अगली कहानी