Home » बिज़नेस » Rajasthan jaipur tribe poverty rich land scam income tax seize asset under Benami Transactions Prohibition Act
 

मजदूरी कर दो बच्चों का पालती है पेट, आयकर विभाग ने मारा छापा तो निकली 100 करोड़ की मालकिन

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2019, 17:12 IST

मजदूरी कर किसी तरह अपना और अपने दो बच्चों का पेट पालने वाली संजू देवी मीणा 100 करोड़ रुपये संपत्ति की मालकिन निकली. आयकर विभाग ने इसका खुलासा करते हुए संपत्ति को सीज करने की प्रक्रिया शुरु कर दी है. इनकम टैक्स के अधिकारी जयपुर-दिल्ली हाईवे पर स्थित दंड गांव के पास इन जमीनों को फौरी तौर पर अपने कब्जे में ले रहे हैं. ''बेनामी संपत्ति निषेध अधिनियम'' के तहत ये कार्रवाई की गई है. इस 64 बीघे (करीब 42 एकड़) की जमीन पर लगे बैनरों पर लिखा हुआ है कि ''इस जमीन की मालकिन संजू देवी मीणा हैं. जो इस जमीन की असली मालकिन नहीं हो सकती हैं, लिहाजा इस जमीन को इनकम टैक्स विभाग सीज कर रहा है.''

 

आयकर विभाग को सूचना मिली थी कि दिल्ली-जयपुर हाईवे पर बड़ी संख्या में उद्योगपतियों ने आदिवासियों के फर्जी नाम पर जमीन खरीद राखी है. लेकिन इनका सिर्फ कागजों में पर खरीद बिक्री हो रहा है. क्योंकि कानून के मुताबिक किसी भी आदिवासी की जमीन आदिवासी ही खरीद सकता है. कागजों में खरीदने के बाद यह अपने लोगों के नाम से पावर ऑफ अटॉर्नी साइन (खरीद-बिक्री स्वामित्व) करा कर रख लेते हैं ताकि आगे अपनी मर्जी के मुताबिक जमीन ट्रांसफर कर सकें. जब आयकर विभाग ने इसके असली मालिक की तलाश शुरू की तो पता चला कि जमीन राजस्थान के सीकर जिले स्थित दीपावास गांव में रहने वाली संजू देवी मीणा की है. पहाड़ियों और दुर्गम इलाके के पास बसे इस गांव में पहुंचना आसान नहीं है.

संजू देवी मीणा ने वहां पहुंचे मीडियकर्मियों को बताया कि उसके पति और ससुर मुंबई में काम किया करते थे. उस दौरान 2006 उसे जयपुर के आमेर में ले जाकर एक जगह पर अंगूठा लगवाया गया था. 12 साल पहले पति की मौत हो गई थी लेकिन संपत्ति के बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है. संजू ने ये भी बताया कि पति की मौत के बाद 5000 रुपये कोई घर पर दे जाता था लेकिन कई साल से पैसे देने कोई नहीं आता.

First published: 4 July 2019, 17:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी