Home » बिज़नेस » Ratan Tata's dream is not fulfilled by Nano, he is now doing Tiago
 

रतन टाटा का जो सपना नैनो पूरा नहीं कर पायी वो अब ये नई कार कर रही है

सुनील रावत | Updated on: 23 April 2018, 14:07 IST

बीते दिनों देश की प्रमुख कार निर्माता टाटा मोटर्स ने काई विवाद देखे. इन विवादों के बाद टाटा को लेकर कहा जा रहा था कि क्या अब टाटा क्या सिमटती जा रही है. टाटा ने लोगों को सबसे सस्ती कार नैनो का सपना दिखाया लेकिन वह भी अपनी उम्मीदों पर खरी नहीं उतर पायी लेकिन टाटा एक बार फिर से अपना जलवा दिखा रही हैं और उसे टाटा की शानदार वापसी माना जा रहा है.

हालांकि टाटा का यह सपना पूरा किया टाटा समूह के नए चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने, जिन्होंने घरेलू बाजार में टाटा मोटर्स की घटती हिस्सेदारी को भी कम करने में सफलता प्राप्त की. यात्री वाहन बाजार में टाटा मोटर्स की हिस्सेदारी एक फीसदी बढ़ी जबकि वाणिज्यिक वाहनों के मामले में 2.5 फीसदी बढ़ोतरी दर्ज की गई. इस दौरान टाटा मोटर्स का भारतीय कारोबार पहली बार लाभ की स्थिति में भी पहुंचा.

 

टियागो से शानदार वापसी

इस कड़ी में टाटा मोटर्स ने एक बार फिर जोरदार वापसी की है. महज दो साल के सफर में टाटा की छोटी कार टियागो ने मारुति सुजुकी के अल्टो के बाद सबसे ज्यादा बिक्री की है. दूसरे स्थान पर आने के लिए टियागो ने रेनॉल्ट क्विड और हुंडई की ईऑन को पीछे छोड़ दिया. ये कारें अब तीसरे और चौथे स्थान पर आ गई हैं.

 

जनवरी से मार्च 2018 के सियाम (भारतीय ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स सोसाइटी) के आंकड़ों से पता चलता है कि टाटा ने 23,100 से अधिक टियागो बेचीं. हालांकि अल्टो की लगभग 62,200 इकाइयों की तुलना में यह एक छोटी संख्या है. जनवरी-मार्च 2017 में केवल 15,383 इकाइयों से टियागो ने 50 प्रतिशत तक की वृद्धि की है.

2018 की इसी अवधि में अल्टो (भारत में सबसे अधिक बिकने वाली कार) ने अपनी बिक्री में लगभग 1 प्रतिशत की वृद्धि की. फ्रेंच ऑटोमोटिव रेनॉल्ट की स्पोर्ट यूटिलिटी कार क्विड ने इस अवधि के दौरान 32 फीसदी से 17,517 इकाइयों की बिक्री की.

जबकि कोरियाई कार निर्माता हुंडई की छोटी कार ईओन की बिक्री में इस तिमाही के दौरान 7 फीसदी की गिरावट देखी गई. टाटा मोटर्स ने 2017-18 के दौरान टियागो की 78,829 इकाइयां बेचीं, जिसका मतलब है कि पिछले वर्ष की तुलना में यह वृद्धि 40 प्रतिशत है. ऑटो जानकारों का कहना है कि टियागो 2018-19 में इस दर से कार बेचता रहा तो है तो यह पूरे साल के लिए सेगमेंट में दूसरा सबसे अच्छा विक्रेता बन सकता है.

ये भी पढ़ें : ऐसे खेला मोदी सरकार ने तेल पर खेल, दक्षिण एशिया में सबसे ज्यादा टैक्स

First published: 23 April 2018, 12:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी