Home » बिज़नेस » RBI chief Urjit Patel set to meet Arun Jaitley today amid growing rift
 

आमने-सामने बैठकर जेटली और RBI गवर्नर उर्जित पटेल सुलझा पाएंगे विवाद ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 October 2018, 13:01 IST

 

केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक के बीच तनातनी की ख़बरों के बीच आज वित्त मंत्री अरुण जेटली और आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल मुलाकात करेंगे. वित्त मंत्री जेटली मंगलवार 30 अक्टूबर को वित्तीय स्थिरता और विकास काउंसिल की मीटिंग की अध्यक्षता करेंगे, जिसमे उर्जित पटेल भी शामिल हो रहे हैं. इससे पहले आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कहा था कि अगर सरकार संस्थान की स्वायत्तता को ठेस पहुंचाई, तो बाजार को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. मंगलवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मंगलवार को एक भाषण में उधार देने से रोकने में विफल होने की आलोचना की.

क्या कहा था डिप्टी गवर्नर ने ?

आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य Viral Acharya ने चेतावनी दी कि केंद्रीय बैंक की आजादी को कमजोर करना एक त्रासदी जैसा हो सकता है. भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य की टिप्पणियों से पता चलता है कि केंद्रीय बैंक पर आगामी लोकसभा चुनाव से पहले अपनी नीतियों को रिलेक्स देने शक्तियों को कम करने के लिए सरकारी दबाव बढ़ रहा है. यही कारण है कि बीते सप्ताहों में भारतीय वित्तीय बाजार गिर रहा हैं.

 

शीर्ष उद्योगपतियों के साथ एक भाषण में उन्होंने 2010 में अपने केंद्रीय बैंक के मामलों में अर्जेंटीना सरकार की दिक्कत का हवाला देते हुए बताया कि क्या गलत हो सकता है. उन्होंने कहा अगर सरकार केंद्रीय बैंक की आजादी का सम्मान नहीं करेगी तो उसे आर्थिक बाजारों की नाराजगी का शिकार होना पड़ेगा. इस दौरान वहां भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल भी मजूद थे और उन्होंने भाषण के लिए और सुझाव के लिए उनका धन्यवाद दिया.

सरकार ने ने हाल ही में आरबीआई को कुछ बैंकों पर अपने ऋण प्रतिबंधों को रेलक्स देने के लिए बुलाया था. मीडिया में यह भी खबरें आयी थी कि सरकार देश के पेमेंट सिस्टम के लिए एक अलग से रेगुलेटर बनाने की संभावना पर विचार कर रही है. फिलहाल से आरबीआई देखता है. आचार्य ने कहा कि केंद्रीय नियामक और पर्यवेक्षी शक्तियों में केंद्रीय बैंक के लिए प्रभावी आजादी सुनिश्चित करने की आवश्यकता है. आचार्य ने कहा, "केंद्रीय बैंक की आजादी को कमजोर करने का जोखिम संभावित रूप से विनाशकारी है.

ये भी पढ़ें : डूब रही हैं भारतीय स्मार्टफोन कंपनियां, इस साल बिके 50000 करोड़ के चाइनीज मोबाइलकै

First published: 30 October 2018, 13:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी