Home » बिज़नेस » RBI ex governor Raghuram Rajan Behind India's Declining Growth and increase NPAs, Says NITI Aayog Vice-Chairman Rajiv Kumar
 

नोटबंदी नहीं, रघुराम राजन के लगाया देश के विकास पर ब्रेक- नीति आयोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 September 2018, 16:05 IST

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन पर बड़ा आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि रघुराम राजन की गलत नीतियों के कारण आर्थिक विकास में कमी आई है.

बैंकिंग क्षेत्र में एनपीए (Non-performing asset) में वृद्धि हुई. बढ़ती एनपीए की वजह से देश की आर्थिक विकास में कमी आई है. पूर्व गवर्नर राजन ने जोखिम पूर्ण एनपीए की पहचान के लिए नए मैकेनिज्म / तंत्र को विकसित किया था और इसे जारी रखा गया जिससे बैंकिंग सेक्टर ने उद्योगों को लोन देना बंद कर दिया.

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार में बताया कि देश में SME (मध्यम और लघु उद्योग) के लोन डिफाल्टर और NPA होने की सालाना दर में 100 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. क्योंकि रघुराम की नीतियों के कारण इन उद्यमों को बैंकों से क्रेडिट प्राप्त नहीं हो पाया.

इस गिरावट की प्रवृत्ति के कारण विकास की निरंतरता में कमी आयी है. बैंकिंग क्षेत्र में बढ़ती एनपीएएस की वजह से बैंक उधोगों को नए ऋण देने में दर रहें हैं. जब नई सरकार ने आई तो NPA का आंकड़ा 4 लाख करोड़ था, यह साल 2017 के मध्य तक 10.5 लाख करोड़ रुपये हो गया क्योंकि पिछले आरबीआई के गवर्नर राजन ने NPA की पहचान और निष्पादन के लिए गलत नीतियां बनाई थी.

First published: 3 September 2018, 16:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी