Home » बिज़नेस » Rbi Guideline: Your Bank Will compensate for Fail ATM transaction Rs 100 Daily As Per Reserve bank rule
 

बैंक रोजाना 100 रुपये आपके अकाउंट में करेगा ट्रांसफर, RBI ने जनहित में किए निर्देश जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 June 2019, 14:12 IST

आम लोगों को अक्सर अपने बैंकिंग कार्यों में परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ग्राहकों की सुविधा का ख्याल रखते हुए रिज़र्व बैंक (RBI) समय-समय पर बैंकों को गाइड लाइन जारी करते रहती है जिसकी जानकारी ग्राहकों को भी होनी चाहिए ताकि उसका लाभ उठा सकें.

अभी कुछ महीने पहले ही आरबीआई ने बैंकिंग ट्रांजैक्शन में समस्या को लेकर सख्त नियम जारी किये थे. जिसके तहत बैंक अगर निर्धारित समय में आपके समस्या का निपटारा नहीं करते हैं तो 100 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से आपको हर्जाना देंगे. RBI द्वारा जनहित के लिए पूर्व में जारी गाइड लाइन की विस्तृत जानकारी पुनः यहां दी जा रही है जिसका निश्चित तौर पर आपको लाभ मिलेगा.

45 लाख रुपये चाहते हैं पाना तो ₹ 200 जमा करें रोजाना, जबरदस्त SIP स्कीम

Jio के इस जबरदस्त प्लान से आएगी डिजिटल क्रांति, अब 149 रूपये में ही सब कुछ

बैंक देगी 100 रुपये रोजाना

बैंकों ने ग्राहकों की समस्या का समाधान करने के लिए कई हेल्प-लाइन नंबर/कस्टमर केयर नंबर मुहैया करवाए हैं लेकिन समस्या का समाधान तुंरत नहीं हो पाता. कभी-कभी ऐसा भी होता है कि एटीएम से पैसे निकालते समय अकाउंट से बैलेंस तो कट जाते हैं लेकिन पैसे नहीं निकल पाते हैं. इसके लिए आपको या तो बैंको के चक्कर लगाने पड़ते हैं या बार-बार कस्टमर केयर में कॉल करने का झल्लाहट भरा काम करना होता है. तब भी यह निश्चित नहीं होता कि आपका प्रॉब्लम सॉल्व हो जाए.

रिजर्व बैंक ने ऐसे ग्राहकों को राहत देने के लिए नया नियम बनाया है और ग्राहकों के प्रति बैंक की जिम्मेदारी तय करने के लिए निर्देश दिए हैं. ATM ट्रांजेक्शन कहते हैं. अगर खुद-ब-खुद पैसा रिफंड नहीं हो जाता है RBI की इस गाइडलाइन के अनुसार, आपके पैसे वापस आने में जितना दिन का समय लगेगा, बैंक मुआवजे के तौर पर आपको प्रतिदिन के हिसाब से 100 रुपये अतिरिक्त देंगे.

ऐसे करें शिकायत

RBI ने इसके लिए एक समय सीमा भी निर्धारित कर रखी है. ऐसी शिकायत मिलने के सात कामकाजी दिन के अंदर बैंक को उस ग्राहक के अकाउंट में पैसे वापस करने होंगे. यह नियम देश के सभी बैंको (सरकारी / प्राइवेट) पर लागू होता है

ट्रांजेक्शन फेल के बाद 30 दिनों के अंदर ट्रांजेक्शन की स्लिप या अकाउंट स्टेटमेंट के साथ अपने बैंक के निकटतम ब्रांच में शिकायत दर्ज करानी होगी. इसके बाद अगर सात कामकाजी दिनों के भीतर आपका पैसा रिफंड नहीं होता है तो आपको एक फॉर्म भरना होगा, जिसके बाद आपके हर्जाने की रकम जुड़ने लगेगी. उदाहरण के तौर पर अगर आपको 15 दिनों में पैसा मिलता है तो 1500 रुपये अतिरिक्त मिलेंगे.

First published: 29 June 2019, 14:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी