Home » बिज़नेस » RBI keeps interest rates unchanged, slashes economic growth forecast on Monetary Policy
 

RBI ने सरकार के साथ आम लोगों को भी दिया झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 October 2017, 15:57 IST

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की मंगलवार को द्विमाही मौद्रिक समीक्षा बैठक हुई. इस बैठक में आरबीआई ने केंद्र सरकार के साथ जनता को झटका दिया. आरबीआई ने बढ़ती मंहगाई को देखते हुए ब्याज़ दरों में किसी भी प्रकार का बदलाव नहींं किया. 

आरबीआई ने मंगलवार को रेपो रेट को 6 फीसदी पर और रिवर्स रेपो रेट को 5.75 फीसद पर बरकरार रखा है. इसी के साथ कैश रिजर्व रेशियो (सीआरआर) में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है. इसे 4 फीसदी ही रखा गया है. आरबीआई ने जीएसटी के क्रियान्वयन पर भी नाखुशी जताई है. 

आरबीआई ने इस वित्त वर्ष के लिए अर्थव्यवस्था की विकास दर का अनुमान भी घटा दिया है. मौद्रिक समिति ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिए विकास दर को 7.3 फीसदी से घटाकर 6.7 फीसदी कर दिया है. आरबीआई ने अगस्त में ही 7.3 फीसदी का अनुमान जारी किया था.

जीएसटी को लेकर मौद्रिक समिति ने कहा है कि इसे लागू करने के बाद इकोनॉमी पर नकारात्मक असर पड़ा है. इसकी वजह से छोटी अवधि में मैन्युफैक्च‍रिंग सेक्टर के लिए बड़ी दिक्कतें पैदा हुई हैं. इसकी वजह से देश में निवेश  की गतिविधियों पर भी असर पड़ेगा. देश में निवेशक गतिविधियां पहले ही दबाव में है. हालांकि आरबीआई ने यह भी कहा है कि दूसरी छमाही में यह असर कम होगा और विकास को रफ्तार मिलेगी. 

First published: 4 October 2017, 15:57 IST
 
अगली कहानी