Home » बिज़नेस » rbi new guidelines to banks will held fair to solve the problem of coins
 

RBI ने सिक्कों को झमेला ख़त्म करने के लिए उठाया बड़ा कदम

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 December 2017, 18:02 IST

बाजार में बढ़ते सिक्कों के प्रचलन और उसे लेने में बैकों की आनाकानी को देखते हुए देश के केंद्रीय बैंक ने बड़ा फैसला लिया है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इससे निपटने के लिए बैंकों को ज़रुरी एडवाइजरी जारी की है.

आरबीआई ने देश के सभी बैंकों से कहा कि सिक्कों को जमा करने के लिए वो सिक्का मेले लगाएं. इन मेलों में बैंक लोगों से सिक्के लेकर उन्हें जमा करें. आरबीआई ने करेंसी चेस्ट के मुख्य प्रबंधकों को भी निर्देशित किया गया है कि वे शाखाओं से सिक्के लें. एक अनुमान के मुताबिक इस समय एक हजार करोड़ रुपये से अधिक के सिक्के उत्तर प्रदेश के बाजारों में चलन में है. वहीं पूरे देश में 25 हजार करोड़ रुपये से अधिक के सिक्के बाजार में हैं.

सिक्कों की अधिकता की वजह से बाजार में अराजकता का माहौल, लोगों को इन सिक्कों को खपाने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इतना ही नहीं बैंकों द्वारा इन सिक्कों को लेने से इनकार करने की शिकायतें भी आरबीाई को मिल रही है. 

नोटबंदी की वजह से बड़ा सिक्कों का प्रचलन 

पीएम मोदी ने पिछसे साल 8 नवंबर को पूरे देश में नोटबंदी की घोषणा की थी. केंद्र सरकार ने एक झटके में 500 और 1000 रुपये के नोटों को अवैध घोषित कर दिया था. इसके बाद बैंकों ने ग्राहकों को इसके बदले सिक्के देने शुरु कर दिये थे. हालांकि केंद्र सरकार ने 2000 रुपये और 500 रुपये का नोट बाजार में जारी किया, लेकिन इसके प्रचलन में आने तक बाजार में जमकर सिक्के चलने लगे.

इसके बाद बाजार में सिक्कों की अधिकता होने के बाद बैंकों ने शाखाओं में सिक्के जमा करने में आनाकानी शुरू कर दी. इस नतीजा यह हुआ कि व्यापारी और छोटे दुकानदार भी ग्राहक से सिक्के लेने से परहेज करने लगे. इन लोगों को चेतावनी देने के बाबजूद इन्हें नहीं लेने की शिकायतें सामने आईं.

देशभर में  प्रशासनिक दफ्तरों के बाहर भी लोगों ने इसके विरोध में प्रदर्शन किया. पर इसका खास असर बैंकों पर नहीं पड़ा.

First published: 25 December 2017, 18:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी