Home » बिज़नेस » RBI removes charges on RTGS/NEFT transactions; asks banks to pass on benefits
 

RBI ने दिया बड़ा तोहफा, NEFT और RTGS पर अब नहीं लगेगा कोई चार्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2019, 15:04 IST

भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को कहा कि उसने डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए आरटीजीएस और एनईएफटी के माध्यम से फंड ट्रांसफर पर लगने वाले चार्ज को दिया है. इससे ग्राहकों को लाभ मिलने की उम्मीद है. रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम (आरटीजीएस) बड़े-मूल्य तात्कालिक फंड ट्रांसफर के लिए है, जबकि नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) सिस्टम का इस्तेमाल 2 लाख तक के फंड ट्रांसफर के लिए किया जाता है.

 

देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने NEFT के माध्यम से लेनदेन के लिए 1 और 5 रूपये के बीच और RTGS पर 5 से 50 रूपये का शुल्क लेता है. मौद्रिक नीति समिति की बैठक के बाद विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर अपने बयान में, RBI ने कहा कि वह अन्य फंड ट्रांसफर के लिए RTGS और NEFT प्रणाली के माध्यम से लेनदेन के लिए बैंकों पर न्यूनतम शुल्क वसूलता है. बदले में बैंक अपने ग्राहकों पर शुल्क लगाते हैं.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने यहां संवाददाताओं से कहा कि समिति को अपनी पहली बैठक के दो महीने के भीतर अपनी सिफारिशें सौंपने की उम्मीद है. केंद्रीय बैंक ने कहा कि समिति के संदर्भ की संरचना और शर्तें एक सप्ताह के भीतर जारी की जाएंगी.

RBI ने किया ब्याज दरों में 0.25 % की कटौती का ऐलान, EMI में मिल सकती है राहत

First published: 6 June 2019, 14:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी