Home » बिज़नेस » RBI's bi-monthly monetary policy review: Repo rate unchanged at 6.5%
 

आरबीआई क्रेडिट पॉलिसीः ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 June 2016, 12:17 IST

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की द्विमासिक क्रेडिट पॉलिसी उम्मीद के मुताबिक ही रही है. आरबीआई ने दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. इस तरह, रेपो रेट बिना किसी बदलाव के 6.5 फीसदी पर बरकरार है.

जबकि रिवर्स रेपो रेट 6 फीसदी पर बना रहेगा. रिवर्स रेपो रेट पर ही बैंक अपना पैसा आरबीआई के पास रखते हैं. साथ ही आरबीआई ने कैश रिजर्व रेशियो यानी सीआरआर में कोई बदलाव नहीं किया है और ये 4 फीसदी पर कायम है.

क्या है क्रेडिट पॉलिसी?

रेपो रेट 

रेपो रेट वो ब्याज दर है, जिस पर रिजर्व बैंक, कमर्शियल बैंकों को कर्ज देता है. अगर रेपो रेट कम हो जाता है, तो इसका सीधा फायदा ग्राहकों को कम ईएमआई के रूप में मिलता है.

रिवर्स रेपो रेट

रिवर्स रेपो रेट वो दर है, जिस पर रिजर्व बैंक, कमर्शियल बैंकों से कर्ज लेता है. अगर रिजर्व बैंक रिवर्स रेपो रेट बढ़ा देता है, तो इसका मतलब हुआ कि बैंकों को अपना पैसा रिजर्व बैंक में रखने से ज्यादा ब्याज मिलेगा. 

सीआरआर

सीआरआर वो पूंजी है, जो बैंकों को रिजर्व बैंक में रखनी होती है. अगर रिजर्व बैंक सीआरआर बढ़ा देता है, तो इसका मतलब ये है कि बैंकों को रिजर्व बैंक में ज्यादा पैसा रखना होगा. यानी लोन देने के लिए बैंकों के पास पैसा कम हो जाएगा.

First published: 7 June 2016, 12:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी