Home » बिज़नेस » Reliance Jio: Bharti Airtel, Vodafone, Idea Cellular violated licence agreement, paid Rs 400 cr less to government
 

Jio का दावा- Airtel, Vodafone और Idea ने सरकार को लगाया 400 करोड़ का चूना

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 May 2017, 14:30 IST

रिलायंस जियो ने भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया पर आरोप लगाया है कि उन्होंने सरकार को 400 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान पहुंचाया है. रिलायंस जियो ने दूरसंचार मंत्रालय से शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया है कि भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया ने मार्च में उचित लाइसेंस शुल्क नहीं दिया .

मुकेश अंबानी के लीडरशिप वाली कंपनी ने आरोप लगाया है कि एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्यूलर ने देश के लाइसेंस नियमों का उल्लंघन किया. इन कंपनियों ने जान-बूझकर 2016-17 की अंतिम तिमाही का अग्रिम लाइसेंस शुल्क अपनी अनुमानित समायोजित सकल आय के आधार पर दिया, जो तीसरी तिमाही से कम था. लाइसेंस समझौते के तहत चौथी तिमाही की राशि तीसरी तिमाही के भुगतान से कम नहीं होनी चाहिए.

कंपनियों ने ऐसे लगाया चूना!

एयरटेल ने जनवरी-मार्च 2017 के लिये लाइसेंस शुल्क के रूप में करीब 950 करोड़ रुपये का भुगतान किया. जियो का आरोप है कि यह राशि एयरटेल द्वारा अक्तूबर-दिसंबर, 2017 में दिये गये 1,099.5 करोड़ रुपये के लाइसेंस शुल्क से 150 करोड़ रुपये कम है.

वोडाफोन ने 550 करोड़ रुपये का भुगतान किया, जो तीसरी तिमाही में दिए गए 746.8 करोड़ रुपये के लाइसेंस शुल्क से 200 करोड़ रुपये कम है.

आइडिया ने तीसरी तिमाही में दिये गये 609.4 करोड़ के मुकाबले 70 करोड़ रुपये कम शुल्क का भुगतान किया. इस तरह से इन तीनों टेलीकॉम कंपनियों ने मिलकर सरकार को कुल 400 करोड़ रुपये का कथित तौर पर नुकसान पहुंचाया.

वहीं दूरसंचार कंपनियों के संगठन सीओएआई के महानिदेशक राजन एस मैथ्यूज ने कहा, "अगर मीडिया से मिली खबर सही है, तो जो आरोप लगाये गए हैं, वो गलत और आधारहीन हैं. सीओएआई को इस बारे में कोई सूचना नहीं मिली है."

First published: 23 May 2017, 14:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी