Home » बिज़नेस » Relief for India? US to consider waivers on Iran sanctions, says Mnuchin
 

ईरान से तेल आयात पर अमेरिका दे सकता है भारत को छूट ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 17:02 IST

अमेरिका के ट्रेजरी सचिव स्टीवन म्यूनुचिन ने कहा कि कुछ मामलों में संयुक्त राज्य अमेरिका उन देशों के लिए छूट देने को तैयार है. जिन्हें ईरान से तेल के आयात को कम करने के लिए अधिक समय चाहिए. म्यूनुचिन ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, "हम चाहते हैं कि सभी देश तेल खरीद को ख़त्म पर कम करें, लेकिन कुछ मामलों में ऐसा नहीं कर सकते हैं, तो हम अपवादों पर विचार करेंगे."

कुछ अमेरिकी अधिकारियों की टिप्पणियों को स्पष्ट करते हुए कहा कि वहां कोई छूट नहीं होगी. सोमवार को म्यूनुचिन की टिप्पणियों को रोक दिया गया क्योंकि अन्य अमेरिकी अधिकारियों ने इस हफ्ते ईरानी तेल आपूर्ति में कटौती पर भारत में वार्ता शुरू करने की उम्मीद थी. म्यूनुचिन ने मैक्सिको से आते वक़्त पत्रकारों से बात की, जहां वह मेक्सिको के अगले राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज़ ओब्राडोर से मिलने के लिए राज्य सचिव माइक पोम्पे के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे.

 

ट्रम्प प्रशासन ने सभी देशों को नवंबर से ईरानी तेल के आयात में कटौती करने के लिए कहा है. जब अमेरिका तेहरान के खिलाफ प्रतिबंधों को दोबारा शुरू कर देगा. भारतीय अधिकारियों के अनुसार, ईरान प्रतिबंधों पर चर्चा के लिए इस सप्ताह दिल्ली में वार्ता के लिए अमेरिकी विदेश विभाग और एक प्रतिनिधिमंडल के आने की उम्मीद है.

म्यूनुचिन ने कहा कि वह इस सप्ताह ब्यूनस आयर्स में जी20 वित्त मंत्रियों की बैठक के दौरान विकसित और विकासशील देशों के अपने समकक्षों से मिलेंगे. इस दौरान ईरान के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों पर बातचीत होने की संभावना है. म्यूनुचिन ने कहा कि वाशिंगटन ने सहयोगियों को स्पष्ट कर दिया था कि उन्हें उम्मीद है कि वे ईरान के खिलाफ प्रतिबंधों को लागू करें, "लेकिन यदि विशिष्ट स्थितियां हैं तो हम सुनने के लिए तैयार हैं."

फ्रांसीसी वित्त मंत्री ब्रूनो ले मायर ने हालही में कहा था कि वाशिंगटन ने इरान में परिचालन करने वाली कंपनियों के लिए छूट के लिए फ्रांसीसी अनुरोध को खारिज कर दिया था. पेरिस ने महत्वपूर्ण क्षेत्रों को अलग किया था जहां ऊर्जा, बैंकिंग, फार्मास्यूटिकल्स और मोटर वाहन सहित फ्रांसीसी कंपनियों के लिए छूट या विस्तारित पवन-डाउन अवधि की उम्मीद थी.

ट्रम्प प्रशासन ने कहा है कि 50 से अधिक विदेशी कंपनियों ने ईरान से अपना कारोबार वापस ले लिया है क्योंकि ट्रम्प ने घोषणा की थी कि ईरान अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन, चीन और रूस के बीच 2015 के परमाणु समझौते से वापस आ रहा है.

ये भी पढ़ें : ग्रामीण भारत को चार पहियों पर लाने की तैयारी में है मारुति सुजुकी

First published: 17 July 2018, 15:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी