Home » बिज़नेस » Ruchi Soya’s lenders have asked Patanjali Ayurved and Adani Wilmar to submit updated bids in lieu of acquiring the stressed firm
 

किस बात को लेकर बाबा रामदेव और गौतम अडानी हैं आमने-सामने ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2018, 11:41 IST

कर्ज में डूबी रुची सोया को खरीदने में गौतम अडानी और बाबा रामदेव में सीधा मुकाबला हो सकता है. खबरों के अनुसार पतंजलि आयुर्वेद और अडानी विल्मर ने कर्जे में डूब चुकी रूचि सोया को खरीदने के लिए बोली लगायी है. बोली लगाने के पहले दौर में इस बात का खुलासा हुआ है कि पतंजलि ने रूचि सोया को खरीदने के लिए 43 अरब रुपये का प्रस्ताव दिया था, जो अडानी के 33 अरब रुपये के प्रस्ताव से 30 फीसदी अधिक है.

अब देखने वाली बात यह है कि अडानी रूचि सोया को खरीदने के लिए बोली लगाने के अगले दौर में कैसा रुख अपनाते हैं. गौरतलब है कि खाद्य तेल उत्पादक रुची सोया ने 120 अरब रुपये से ज्यादा का कर्ज था. पिछले हफ्ते रुची सोया हासिल करने के लिए कई अन्य कंपनियों ने भी बोलियां लगाई थी. हालांकि पतंजलि का पहले से ही रुचि सोया से करार है. रूचि सोया पतंजलि को खाद्य तेल की आपूर्ति करती है.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार पतंजलि के साथ गठजोड़ के जरिए गोदरेज एग्रोवेट इस कंपनी के लिए बोली लगा सकती है. अगर बोली कामयाब रहती है तो पतंजलि की योजना रुचि सोया की पाम तेल प्लांटेशन परिसंपत्तियों को बाहरी खरीदार मसलन गोदरेज एग्रोवेट को बेचने की है.

रूचि सोया के पास देश में 61,700 हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में प्लांटेशन है और यह कच्चा पाम तेल, कच्चा पाम कर्नल ऑयल आदि का उत्पादन करती है. रूचि सोया के प्रमुख ब्रांड न्यूट्रिला, महाकोश, सनरिच, रुचि स्टार और रुचि गोल्ड है. इन सभी ब्रांडों की बाजार में बड़ी हिस्सेदारी है.

ये भी पढ़ें : योगी सरकार से रूठे रामदेव, UP से शिफ्ट होगा पतंजलि फूड पार्क

पतंजलि के प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण ने एक इंटरव्यू में कहा किने कहा कि रुचि सोया में पतंजलि का हित उसके आधारभूत संरचना के कारण है जिससे पतंजलि उत्पादन को बढ़ाने में मदद मिलेगी. इस सौदे को वित्त पोषित करने के लिए कंपनी पहले ही बैंकों से बात कर रही है.

पतंजलि की वर्तमान में खुदरा, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा (आयुर्वेद) में मौजूदगी है. कंपनी शैम्पू और टूथपेस्ट से बिस्कुट, नूडल्स, चावल और गेहूं तक सबकुछ बेचती है. अक्टूबर 2016 में पतंजलि ने सोनीपत में 70 करोड़ रुपये में आरएच एग्रो ओवरसीज (पी) लिमिटेड के स्वामित्व वाली राइस मिल खरीदी थी.

ये भी पढ़ें : क्या अब इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी खरीदने की तैयारी में पतंजलि आयुर्वेद ?

First published: 6 June 2018, 11:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी