Home » बिज़नेस » Rupee breaches 70 per US dollar for the first time, government blames ‘external factors’
 

रुपये में रिकॉर्ड गिरावट के लिए सरकार ने ठहराया इन कारणों को जिम्मेदार

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 August 2018, 14:08 IST

भारतीय रुपया मंगलवार को गिरावट के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गया. अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 70.08 पर पहुंच गया. डॉलर के मुकाबले रुपया 69.84 पर खुला और सुबह 10.34 बजे 70.08 के स्तर पर पहुँच गया. 1.15 बजे, रुपया 69.90 डॉलर प्रति डॉलर पर कारोबार कर रहा था.

सरकार ने रूपये में गिरावट के लिए बाहरी कारकों को जिम्मेदार ठहराया है. आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा, "इस स्टेज में चिंता करने के लिए कुछ नहीं है. बाहरी कारकों के कारण रुपया कमजोर पड़ रहा है जो आगे बढ़ने के साथ आसानी से कम हो सकता है''. इस बीच मासिक डब्ल्यूपीआई के आधार पर मुद्रास्फीति की वार्षिक दर जुलाई 2018 में 5.09% पहुंच गई.

सोमवार को एशियाई बाजारों पर भारी प्रभाव पड़ा, जिसने राष्ट्रपति रिसेप तय्यिप एर्दोगान ने नागरिकों से लीरा में सोने और डॉलर का आदान-प्रदान करने के लिए कहा था क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ संबंधों को खराब करने के कारण देश की मुद्रा में लगभग 19% गिरावट आई है.

10 अगस्त को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तुर्की से धातु आयात पर उच्च शुल्क की घोषणा की थी. दो दिन बाद एर्डोगन ने विदेशी देशों पर तुर्की से युद्ध करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ट्रम्प प्रशासन की योजना का मुकाबला करने के लिए उचित व्यापार उपायों का पालन करेगी.

First published: 14 August 2018, 14:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी