Home » बिज़नेस » Economic slowdown: single digit increase in salary in 2020 - survey
 

Salary hike: 2020 में आपकी सैलरी में होगी एक दशक की सबसे कम बढ़ोतरी, जानिए क्यों

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2020, 10:08 IST

आर्थिक मंदी ने लोगों की कमाई पर गहरा असर डाला है. ऑटो सेक्टर जैसे अधिक रोजगार देने वाले सेक्टर में लोगों को नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है. यही नहीं इस मंदी के कारण लोगों की वेतन वृद्धि पर भी तगड़ा ब्रेक लगा है. Aon Plc के वार्षिक वेतन वृद्धि सर्वेक्षण की माने तो 2020 में वेतन वृद्धि औसतन 9.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है. यह बढ़ोतरी एक दशक में सबसे कम है.

2018 और 2019 में कंपनियों ने औसत वेतन में 9.5 प्रतिशत और 9.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की थी. 2008 के वित्तीय संकट के बाद यह बढ़ोतरी 6.6 प्रतिशत तक लुढ़क गई थी. हालांकि अच्छी खबर यह है कि जीडीपी की वृद्धि के अनुमानों में गिरावट के बावजूद 2020 के लिए औसत वेतन वृद्धि पिछले वर्ष की तुलना में केवल 20 आधार अंक कम होगी.

कहा गया है कि 39 फीसदी कंपनियां अभी भी 2020 में दो अंकों की वेतन वृद्धि देने को तैयार हैं. 2011 तक औसत वेतन वृद्धि उच्च दोहरे अंकों में थी. 2012 और 2016 के बीच यह 10 प्रतिशत के लगभग थी. हाल के वर्षों में यह 9 प्रतिशत से नीचे आ गई है. एओन द्वारा किए गए सर्वेक्षण में 20 से अधिक उद्योगों में 1,000 से अधिक कंपनियों को शामिल किया गया था.


सैलरी हाइक में भारत सबसे आगे 

कहा गया है जो कंपनियां 2019 में 2020 में राजस्व में गिरावट का अनुमान लगा रही हैं, वे 8.1 प्रतिशत वेतन वृद्धि की पेशकश कर रही हैं. निराशाजनक दृष्टिकोण के बावजूद भारत अभी भी एशिया-प्रशांत (APAC) क्षेत्र में वेतन वृद्धि में सबसे आगे है. भारत के बाद चीन 6.3 प्रतिशत की अनुमानित वेतन वृद्धि के साथ दूसरे स्थान पर है. इसके बाद फिलीपींस 5.8 प्रतिशत है. किसी भी विकसित अर्थव्यवस्था के लिए जापान में सबसे कम वेतन वृद्धि 2.4 प्रतिशत है.

योगी सरकार का बजट- जेवर हवाई अड्डे के लिए 2,000 करोड़ का फंड, ये हैं बड़ी घोषणाएं

Google ने दिया बड़ा झटका, भारत में रेलवे स्टेशनों पर फ्री Wi-Fi सेवा करेगी बंद

First published: 19 February 2020, 10:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी