Home » बिज़नेस » Saudi Arabia to supply 4 million barrels of extra oil to India in November
 

खुशखबरी : ईरान से सप्लाई हुई बंद तो भारतीय तेल कंपनियों को 40 लाख बैरल अतिरिक्त तेल देगा ये देश

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2018, 15:32 IST

दुनिया का सबसे बड़ा तेल एक्सपोर्टर सऊदी अरब इस साल  नवंबर में कच्चे तेल के अतिरिक्त चार मिलियन बैरल भारतीय तेल खरीददारों को सप्लाई करेगा. सऊदी अरब की यह अतिरिक्त आपूर्ति इस बात के संकेत देता है कि ईरान के तेल निर्यात पर अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बाद कमी को पूरा करने के लिए सऊदी अरब तैयार है. गौरतलब है कि ईरान पेट्रोलियम निर्यात करने वाले देशों (ओपेक) के संगठन में तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है. ईरान का चीन सबसे बड़ा तेल ग्राहक है जिसके बाद भारत भारत का स्थान आता है. हालांकि कई रिफाइनरों ने संकेत दिया है कि प्रतिबंधों के कारण वे ईरानी बैरल लेना बंद कर देंगे.

सूत्रों ने बताया कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्प, भारत पेट्रोलियम कॉर्प और मैंगलोर रिफाइनरी पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड नवंबर में सऊदी अरब से अतिरिक्त 1 मिलियन बैरल मांग रहे हैं. रायटर्स के अनुसार सऊदी अरब के सबसे बड़े तेल उत्पादक सऊदी अरामको ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया.

ईरानी तेल की आपूर्ति पर निर्भरता को देखते हुए भारतीय रिफाइनर प्रतिबंधों की शुरूआत के बाद ईरानी क्रूड के नुकसान के बारे में चिंतित हैं और छूट मांग रहे हैं. देश में रिफाइनरों ने नवंबर में ईरान से 9 मिलियन बैरल खरीदने का आदेश दिया है.

सोमवार को पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने संकेत दिया था कि 4 नवंबर से ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद भारत ईरान से तेल का आयात जारी रखेगा. प्रधान ने कहा कि भारत की दो सरकारी स्वामित्व वाली कंपनियों ने नवंबर के लिए ईरानी क्रूड के लिए अनुबंध किया था. इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसी), मैंगलोर रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल) ने नवंबर में आयात के लिए 1.25 मिलियन टन ईरानी तेल का अनुबंध किया है.

2017-18 में भारत द्वारा आयातित 220.4 मिलियन मीट्रिक टन (मिलियन टन) कच्चे तेल में से 9.4% ईरान से था. दक्षिण और मध्य एशिया के राज्य के प्रमुख उप सहायक सचिव एलिस जी वेल्स के अनुसार, अमेरिका ने ईरान से तेल आयात करने और चाबहार बंदरगाह में निवेश करने के लिए भारत को मंजूरी देने पर कोई निर्णय नहीं लिया है. वेल्स भारत-अमेरिका '2 + 2' वार्ता के लिए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक Pompeo के साथ प्रतिनिधिमंडल के हिस्से के रूप में इस महीने की शुरुआत में नई दिल्ली में थे.

ये भी पढ़ें : खुशखबरी: अमेरिकी प्रतिबंध लागू होने के बाद भी भारत ईरान से तेल खरीदता रहेगा

First published: 10 October 2018, 15:32 IST
 
अगली कहानी