Home » बिज़नेस » SBI bank account details leaked, your money is in danger
 

अगर SBI में है आपका अकाउंट तो हो जाएं सावधान, बैंक से हुई बड़ी गलती, निकल सकते हैं लाखों रुपये !

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2019, 11:33 IST

अगर आपका बैंक आकउंट स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में है तो सावधान हो जाइए. ऑनलाइन फ्रॉड के समय में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की एक चूक से लाखों बैंक अकाउंट पर खतरा मंडरा रहा है. बुधवार का आई एक रिपोर्ट के अनुसार स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया अपने की-सर्वर को सिक्योर रखना भूल गया था. इस बड़ी चूक की वजह से एसबीआई के लाखों बैंक अकाउंट की जानकारी सार्वजनिक है.

आजतक की खबर के अनुसार जिस सर्वर को सिक्योर करने में ये भूल हुई है उस सर्वर में बैंक खातों की पूरी जानकारी जैसे खाते में मौजूद बैलेंस से जुड़ी काफी संवेदनशील जानकारी भी मौजूद थी.

Techcrunch की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सभी की इस भूल के बारे में उन्हें किसी रिसर्चर ने सूचना दी थी. रिसर्चर ने ये बताया था कि बैंक की तरफ से सर्वर पर किसी पासवर्ड को सेट नहीं किया गया है. ऐसी स्थिति में कोई भी हैकर बैंक अकाउंट के सारे निजी डाटा को एक्सेस कर सकता है.

ATM या ऑनलाइन फ्रॉड का हुए हैं शिकार तो इस तरह से वापस पा सकते हैं अपने सारे पैसे, न करें देर

हालांकि इस बात की जानकारी अभी नहीं मिली है कि ये सर्वर बिना पासवर्ड के कितने समय के लिए खुला रहा था. वहीं जब Techcrunch ने जब इस मामले में बैंक से जानकारी लेनी चाही तो एसबीआई ने इस मसले पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया.

आजतक में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बिना पासवर्ड का ये हिस्सा SBI Quick था. ये ऐसा हिस्सा है जहां से बैंक की तरफ से किसी भी एसबीआई के किसी भी खाता धारक को फोन या मैसेज किया जा सकता है. इस बारे में बैंक की वेबसाइट पर भी जानकारी दी गई है, ''इस सिस्टम के जरिए आप अपने खाते से जुड़ी सभी जानकारियां अपने फोन पर पास सकते हैं.''

ATM से पैसे निकालने के पहले हो जाएं सावधान, माचिस की तीली से चुराया जा रहा है पिन

 

रिपोर्ट में ये भी खुलासा किया गया है कि बैंक का ये सर्वर जितनी अवधि के लिए बिना पासवर्ड के खुला था उस समय भी कई बैंक अकाउंट होल्डर्स को सन्देश भेजे गए. रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि सोमवार को ही स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की तरफ से तकरीबन 30 लाख मैसेज भेजे गए थे. इतना ही नहीं इस सर्वर के जरिये ये भी देखा जा सकता है कि बैंक ने पिछले एक महीने में कितने खाता धारकों को क्या मैसेज भेजे हैं.गौरतलब है कि आधार कार्ड को लेकर भी निजी जानकारी की सुरक्षा से जुड़े सवाल पहले भी उठ चुके हैं.

First published: 31 January 2019, 11:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी