Home » बिज़नेस » SBI, HDFC, ICICI, YES & AXIS Banks customers beware: details of 32 lacs debit cards leaked
 

SBI, HDFC, ICICI, YES और AXIS बैंक के ग्राहक सावधानः 32 लाख डेबिट कार्ड की डिटेल्स हुईं लीक

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 October 2016, 13:03 IST

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, यस और एक्सिस बैंक में अगर आपका अकाउंट हैं तो सावधान हो जाएं. इन बैंकों के 32 लाख खाताधारकों के डेबिट कार्ड की डिटेल्स में लीक हुई है जिसे देश के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी सेंध माना जा रहा है. तमाम बैंकों से मिली शिकायतों के बाद पेमेंट्स काउंसिल ऑफ इंडिया ने इस बाबत फोरेंसिक जांच के आदेश जारी कर दिए हैं.

वहीं, देश में ऑटोमेटेड टेलर मशीन (एटीएम) और प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) सुविधा मुहैया कराने वाली कंपनी हितैची द्वारा इस संबंध में अब तक कोई जानकारी या बयान नहीं दिया गया है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सर्वाधिक संख्या में ग्राहकों ने इस संबंध में शिकायत की है कि पड़ोसी मुल्क चीन से ही डेबिट कार्डों से संबंधित गैर कानूनी कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है. 

लगातार बदलता रहेगा क्रेडिट-डेबिट कार्ड का सिक्योरिटी कोड, रोकेगा फ्रॉड

चौंकानें वाली बात यह है कि 32 लाख में से 26 लाख कार्ड वीजा और मास्टर कार्ड आधारित हैं. जबकि 6 लाख कार्ड रुपे प्लेटफॉर्म के हैं. 

इस फ्रॉड से सबसे ज्यादा एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, यस और एक्सिस बैंकों के उपभोक्ता प्रभावित हैं. फ्रॉड करने वालों ने यह सेंध हितैची के पेमेंट सर्विसेज द्वारा लगाए गए मैलवेयर में लगाई है. 

इस सिस्टम में सेंध लगाकर फ्रॉड में शामिल लोग न केवल आंकड़ों से संबंधित सूचना हासिल कर रहे हैं, बल्कि संबंधित सूचनाओं के आधार पर पैसे भी चुरा रहे है.

सपनों को करें कस्टमाइज, जैसे चाहेंगे वैसे सपने आएंगे

इस समस्या को देखते हुए पेमेंट्स काउंसिल ऑफ इंडिया ने भारतीय बैंकों के सर्वर्स और सिस्टम में फॉरेंसिक ऑडिट के आदेश दिए हैं. ताकि इस बात का पता लगाना संभव हो सके कि सूचनाओं की चोरी कहां से हो रही है. 

एनपीसीआई के एमडी एपी होता ने कहा कि हमें डेबिट कार्ड के जरिये फ्रॉड के बाबत शिकयतें बैंकों से मिली हैं. प्रभावित बैंकों के अधिकारियों ने बताया है कि चीन में गलत तरीके से डेबिट कार्ड का प्रयोग हो रहा है उससे संदेह की स्थिति उत्पन्न हो गई है. उन्होंने कहा कि फारेंसिक ऑडिट के जरिये पूरे नेटवर्क की जांच कराने से इस मामले में मदद मिलेगी.

एसबीआई ने 6 लाख डेबिट कार्ड्स होल्डर्स से कहा कि वो अपना पिन नंबर बदल लें. एसबीआई चीफ इंफॉर्मेशन ऑफिसर मृत्युंजय महापात्रा ने कहा कि ग्राहकों की शिकायतों के आधार पर इस बात के संदेह ज्यादा हैं कि ऐसा नॉन एसबीआई एटीएम यूज करने की वजह से हो रहा है, जिसमें से काफी व्हाइट लेबल एटीएम सर्विस प्रोवाइडर्स से ऐसी शिकायतें हैं. 

5 उम्मीदें जिन पर खरा नहीं उतरा गूगल पिक्सल स्मार्टफोन

एचडीएफसी बैंक के प्रवक्ता ने कहा कि हमनें इस मामले में करीब एक सप्ताह पहले जरूरी कदम उठाए हैं. इसके अलावा हमनें उन ग्राहकों को सूचना दी है जो दूसरी बैंकों का एटीएम यूज करते हैं. उन्हें कहा गया है कि वो अपना पिन कोड बदल लें. उपभोक्तताओं से यह भी कहा जा रहा है कि इस बात का प्रयास करें कि वो एचडीएफसी बैक का ही एटीएम यूज करें.

बैंकिंग सिस्टम से जुड़े जानकारों का कहना है कि इस मामले की जांच में छह सप्ताह लगेंगे तब तक इस समस्या से होने वाली परेशानियों का लोगों को सामना करना पड़ेगा. वर्तमान में हितैची के 32 लाख कार्ड होल्डर्स हैं.

इसकी हैं संभावना

  • बदला जा सकता है 26 लाख वीजा और मास्टरकार्ड का प्लेटफॉर्म
  • एसबीआई का 6 लाख कार्ड दोबारा कर सककती है जारी 
  • बेंगलुरू बेस्ड पेमेंट्स एंड सिक्योरिटी स्पेशलिस्ट के एसआईएसए के फारेंसिक ऑडिट में इस बात की जानकारी सामने आईः 
  • एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, यस और एक्सिस बैंक सबसे ज्यादा प्रभावित

First published: 20 October 2016, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी