Home » बिज़नेस » Sensex On Three Months Record High, Nifty Crosses 7850 Mark
 

तीन महीने के रिकॉर्ड स्तर पर सेंसेक्स, निफ्टी 7,850 के पार

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2016, 16:56 IST
QUICK PILL
  • बुधवार को मजबूत वैश्विक संकेतों और बेहतर मानसून की आस में बीएसई सेंसेक्स में 481.16 अंक की मजबूती आई. वहीं निफ्टी भी 7,850.45 पर बंद हुआ. 6 जनवरी के बाद सेंसेक्स का यह उच्चतम स्तर है. 
  • 2016 में मानसून के सामान्य से बेहतर होने की उम्मीद में ऑटो क्षेत्र की कंपनियों के शेयरों में जबरदस्त तेजी देखने को मिली. 

बुधवार को बीएसई सेंसेक्स तीन महीने के उच्चतम स्तर को छूने में सफल रहा. मानसून के बेहतर पूर्वानुमान, मजबूत वैश्विक संकेतों और औद्योगिक उत्पादन में आई तेजी के बाद शेयर बाजार लगातार तीसरे दिन बढ़त बनाए रहा. 

30 शेयरों वाला सेंसेक्स 481.16 अंक चढ़कर 25,626.75 पर बंद हुआ. 6 जनवरी के बाद सेंसेक्स का यह उच्चतम स्तर है. वहीं निफ्टी भी 7, 850 के स्तर को पार करने में सफल रहा. एनएसई निफ्टी 141.50 अंक मजबूत होकर 7850.45 पर बंद हुआ. 

निफ्टी भी 7,850 के स्तर को पार करने में सफल रहा. एनएसई निफ्टी 141.50 अंक मजबूत होकर 7850.45 पर बंद हुआ

2016 में मानसून के सामान्य से बेहतर होने की उम्मीद में ऑटो क्षेत्र की कंपनियों के शेयरों में जबरदस्त तेजी देखने को मिली. 

BSE PTI.

6 जनवरी के बाद सेंसेक्स उच्चतम अपने उच्चतम स्तर 25,626.75 पर बंद हुआ

मंगलवार को जारी आर्थिक आंकड़ों ने भी बाजार को तेजी दी है. केंद्रीय सांख्यिकी आयोग की तरफ से दिए गए आंकड़ों के मुताबिक फरवरी में सालाना आधार पर औद्योगिक उत्पादन में 2 फीसदी रहा जबकि पिछले साल की समान अवधि में 1.5 फीसदी रहा था. तीन महीनों की लगातार गिरावट के बाद औद्योगिक उत्पादन में पहली बार मजबूती आई है. 

इसके अलावा अन्य एशियाई बाजार मेंं आई तेजी ने भी भारतीय शेयर बाजारों में खरीदारी को बढ़ावा दिया. 

बेहतर मॉनसून से मजबूती

हालांकि शेयर बाजार में आई तेजी की वजह मॉनसून के बारे में अच्छी खबर का आना है. फिलहाल देश के करीब आधे से अधिक राज्य सूखे की चपेट में हैं. 

सूखे की वजह से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मांग पर बुरा असर पड़ा है. देश में लगातार दूसरी बार सूखा पड़ा है और इस वजह से ग्रामीण अर्थव्यवस्था पूरी तरह से पटरी से उतर चुकी है.

पिछले दो साल के दौरान बारिश में आई कमी के बीच सरकार ने सोमवार को बताया कि 2016 में मानसून के सामान्य से अधिक रहने की उम्मीद है. सरकार ने राज्य सरकारों को खरीफ फसल का रकबा बढ़ाने की योजना तैयार किए जाने का निर्देश दिया है. 

कृषि सचिव एस के पटनायक ने कहा, 'अल नीनो के प्रभाव में गिरावट आ रही है. इसके बाद ला नीना की स्थिति बनेगी जिससे मॉनसून के बेहतर होने की उम्मीद है.' पिछले दो सालों में मानसून केे सामान्य से कमजोर रहने की वजह से देश में कृषि संकट और पीने के पानी का संकट गहराया है. 

First published: 13 April 2016, 16:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी