Home » बिज़नेस » Share Marker: IT stocks dropped after reports of change in H-1B visa rules, Indian IT companies lost Rs. 33,000 crores
 

ट्रंप के डर से एक ही दिन में पांच दिग्गज IT कंपनियों के 33,000 करोड़ डूबे

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2017, 22:24 IST

अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आने के बाद H-1B वीजा के नियमों में बदलाव किए जाने की रिपोर्टों के बाद मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार में इसका तगड़ा असर देखने को मिला. 

IT कंपनियों के शेयरों में 4 फीसदी की भारी गिरावट देखी गई, जिससे टॉप 5 आईटी कंपनियों को एक दिन के भीतर ही अपने बाजार मूल्य में 33,000 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा.

अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन द्वारा इस सप्ताह वीजा नियमों में संशोधन को मंजूरी दी जा सकती है. भारतीय स्टॉक्स बाजार में टॉप आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के शेयरों में 4.47 फीसदी की कमी आई. इसके परिणामस्वरूप टीसीएस का शेयर 2,229 रुपये  के स्तर पर बंद हुआ.

दूसरी तरफ इंफोसिस का शेयर 2.01 फीसदी की गिरावट के साथ ही 905 रुपये के निचले स्तर पर बंद हुआ. विप्रो के शेयर भी 1.62 फीसदी तक गिरे. मंगलवार को दिन में जहां यह 44555 के स्तर तक पहुंच गए थे, बाजार बंद होते-होते यह थोड़ा संभले और 457.10 रुपये पर बंद हुए.

इसके अलावा टेक महिंद्रा के शेयरों में भी 4.23 फीसदी की गिरावट देखने को मिली. जबकि एचसीएल टेक्नोलॉजीज के शेयर 3.67 फीसदी की गिरावट के साथ 808.85 पर बंद हुए.

मंगलवार बाजार बंद होने तक कुल मिलाकर इन पांच दिग्गज कंपनियों को अपनी बाजार पूंजी में 33,000 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा. 

विशेषज्ञों की मानें तो अमेरिकी राष्ट्रपित डोनाल्ड ट्रंप इस सप्ताह के अंत तक H-1B वीजा नियमों में बदलाव को हरी झंडी दे सकते हैं. इसके परिणामस्वरूप अमेरिका स्थित भारतीय कंपनियों को कर्मचारियों की आउटसोर्सिंग करने में मुश्किल होगी.

First published: 31 January 2017, 22:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी