Home » बिज़नेस » Simple trick to withdraw cash from credit card at 1% rate of interest, PayTM offering E-wallet money transfer into bank account after demonetisation
 

केवल 1 पर्सेंट में क्रेडिट कार्ड से कैश निकालने का आसान तरीका

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 16 November 2016, 19:59 IST

सोचिए कई बार ऐसा होता होगा कि आपको नगद पैसों की जरूरत है और आपके अकाउंट में पैसा नहीं होता, क्रेेडिट कार्ड में होता है लेकिन इससे निकालने पर बैंक बहुत ज्यादा ब्याज वसूल लेती है. सोचिए कैसा हो अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड से केवल 1 फीसदी ब्याज पर 50 दिनों तक के लिए कैश निकाल सकें.

शायद यह सोचकर आप हैरानी में पड़ गए होंगे. लेकिन यह कोई ख्वाब नहीं है बल्कि हकीकत है. क्रेडिट कार्ड से नगद पैसे पाने के लिए किसी प्रकार की टेंशन की भी जरूरत नहीं होगी. 

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500-1000 नोटों के प्रचलन पर पाबंदी के फैसले से ई-वॉलेट मुहैया कराने वाली कंपनी पेटीएम को काफी मुनाफा हुआ है. 

लगातार बदलता रहेगा क्रेडिट-डेबिट कार्ड का सिक्योरिटी कोड

यूं तो पेटीएम काफी पहले से अपनी सेवाएं दे रही है लेकिन 8 नवंबर को आए नोटबंदी के फैसले के बाद इस ई-वॉलेट का इस्तेमाल करने वालों की तादाद तेजी से बढ़ी है. कंपनी का दावा है कि बीते 3 दिनों में करीब 8 लाख 50 हजार से ज्यादा व्यापारियों और 30 लाख से ज्यादा यूजर्स ने पेटीएम सर्विसेज का इस्तेमाल किया. 

चलिए आपको इसका आसान और सीधा तरीका बताते हैंः

अब अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है, स्मार्टफोन है और पेटीएम में लॉगिन (अगर नहीं किया तो कर लीजिए) है तो बस आप अपने क्रेडिट कार्ड से केवल 1 फीसदी ब्याज (25 हजार रुपये पर 250 रुपये) पर अधिकतम 50 दिनों के लिए रकम उधार ले सकते हैं.

इसका तरीका काफी आसान है. पेटीएम की ताजा घोषणा (वैसे पहले से ही यह सुविधा मौजूद है) के मुताबिक उसके यूजर्स अपने पेटीएम वॉलेट में मौजूद रकम को अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं. इस सुविधा को प्राप्त करने के लिए यूजर्स को केवल 1 फीसदी का टैक्स या चार्ज पेटीएम को देना होगा.

5 बातें एलजी यूनीवर्सल पेमेंट कार्ड के बारे में 

सीधे शब्दों में कहें तो आप अपने पेटीएम वॉलेट में क्रेडिट कार्ड के जरिये पैसे डाल लें. अब इन पैसों को अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दें. इसके बाद अपने बैंक अकाउंट से लिंक एटीएम कार्ड से यह रकम निकाल लें.

अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड नहीं है और आपके किसी दोस्त के पास है तो आपका दोस्त इसी तरीके से अपने पेटीएम वॉलेट से आपके बैंक अकाउंट में मनी ट्रांसफर कर सकता है.

फेसबुक मैसेंजर से शॉपिंगः अमेजॉन-पेटीएम-फ्रीचार्ज जैसों को टक्कर देनी होगी

और क्योंकि क्रेडिट कार्ड की स्टेटमेंट डेट से पेमेंट डेट के बीच 50 दिनों का वक्त होता है, इसलिए अगर आप स्टेटमेंट डेट में पेटीएम वॉलेट में पैसे डालकर बैंक अकाउंट से निकाल लेते हैं तो आपके पास इसे वापस क्रेडिट कार्ड अकाउंट में जमा करने के लिए 50 दिनों का वक्त मिल जाएगा, जबकि फीस केवल 1 फीसदी की ही लगेगी.

इतना ही नहीं कई बार पेटीएम ऐड मनी के साथ कुछ कैशबैक की भी सुविधा देता है. यानी अगर आपका प्रोमो कोड फिट बैठ गया तो हो सकता है कि आपको 1 पर्सेंट का ब्याज भी वापस मिल जाए.

एटीएम में देश की सबसे बड़ी सेंधः जानिए अपने कार्ड सुरक्षित रखने का आसान तरीका

हालांकि पेटीएम की ताजा घोषणा में नया यह है कि अब बिना KYC (नो योर कस्टमर यानी ग्राहक सत्यापन के लिए दस्तावेज जमा करना) सत्यापन वाले ग्राहक भी इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं. जबकि पहले पेटीएम वॉलेट मनी को बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करने की सुविधा केवल उन्हीं यूजर्स को देता था जिन्होंने KYC औपचारिकताएं पूरी की हों. 

अगर किसी यूजर ने KYC औपचारिकताएं पूरी नहीं की हैं तो इसके लिए तीन दिन का वेटिंग पीरियड रखा गया है. बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर के लिए न्यूनतम सीमा 100 रुपये की रखी गई है.

न मनी ऑर्डर न बैंक अकाउंट, सीधे स्मार्टफोन से भेजें पैसे

आपको बता दें कि KYC के लिए यूजर चाहे तो पेटीएम एजेंट को अपने घर बुला सकता है या फिर अपने नजदीकी पेटीएम KYC सेंटर पर जा सकता है. यूजर को KYC के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट, वोटर आईडी, डीएल, नरेगा जॉब कार्ड में से किसी एक की फोटोकॉपी की जरूरत होगी. 

इसके अलावा अगर आप 50,000 रुपये से ज्यादा का ट्रांजैक्शन करना चाहते हैं तो इसके लिए पैन कार्ड की फोटोकॉपी भी जमा करनी होगी. गौरतलब है कि पहले पेटीएम KYC भरने वालों से 1 पर्सेंट और KYC न भरने वालों से 4 पर्सेंट चार्ज लेता था. नए मेंबर्स के लिए वेटिंग पीरियड भी 45 दिनों का था. 

First published: 16 November 2016, 19:59 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी