Home » बिज़नेस » Slow down in Indian real estate, property rate slashed up to 35%
 

रीयल एस्टेट के बाजार में मंदी, कीमत 35 फीसदी तक हुईं कम

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2016, 17:53 IST

देश भर में प्रॉपर्टी बाजार मंदी का शिकार हो चुका है. परिणामस्वरूप तमाम शहरों में बिना बिकी रेजीडेंशियल और कमर्शियल प्रॉपर्टी की तादाद बढ़ती जा रही है. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र यानी दिल्ली-एनसीआर में ऐसी प्रॉपर्टी की संख्या देश में सर्वाधिक है. 

एसोचैम द्वारा किए गए इस अध्ययन की मानें तो बिना बिके मकानों-दुकानों की संख्या पिछले कुछ वक्त में 18 से 40 फीसदी तक बढ़ी है. इसके चलते रीयल एस्टेट के कारोबार में आई कमी का असर इससे संबंधित फाइनेंसियल सर्विस और इस्पात क्षेत्र पर पड़ा है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि आवासीय-व्यावसायिक परिसर के दाम और ब्याज दर घटने के बावजूद फ्लैटों की मांग में 25 से 30 फीसदी तक की गिरावट आई है. चौंकाने वाली बात यह है कि दिल्ली-एनसीआर में व्यावसायिक क्षेत्र की मांग 35 से 40 फीसदी तक कम हो गई है.

पढ़ेंः बिल्डरों के वादों पे मारे जा रहे हैं घरौंदे का सपना देखने वाले

एसोचैम के अध्ययन में कहा गया है, "मुंबई के नवी मुंबई, ठाणे और अन्य उपनगरीय क्षेत्रों की गतिविधियों में कुछ तेजी आई है. दिल्ली-एनसीआर के बाद मुंबई में बिना बिके मकानों और दुकानों की सर्वाधिक संख्या है. तीसरे स्थान पर बंगलुरू और फिर चेन्नई है."

रिपोर्ट बताती है कि मुंबई में बिना बिके मकानों की संख्या 27.50 फीसदी, बंगलुरू में 25 फीसदी, चेन्नई में 22.50  फीसदी, अहमदाबाद में 20 फीसदी, पुणे में 19.50 फीसदी और हैदराबाद में 18  फीसदी है.

35 फीसदी तक गिरे प्रॉपर्टी के दाम

रिपोर्ट की मानें तो दिल्ली-एनसीआर में बने कुल मकानों के 35 फीसदी यानी तकरीबन 2 लाख 50 हजार मकानों की बिक्री हुई है. निर्माण में देरी की वजह नियामक स्वीकृति और विवाद बनें. 

पढ़ेंः बिल्डरों पर नकेल, समय पर मिलेगा घर

एसोचैम का चौंकाने वाला खुलासा यह है कि अगर 3 बीएचके, 2 बीएचके या 1 बीएचके के फ्लैटों की बात करें तो नोएडा में इनकी कीमतों में 35 फीसदी की कमी आई है. जबकि गुड़गांव में 30 फीसदी और दिल्ली के कुछ प्रमुख क्षेत्रों में 25 फीसदी तक की कमी दामों में आई है. लेकिन दामों में कमी के बावजूद भी मांग अभी कम बनी हुई है.

इसका यह भी मतलब है कि बीते वर्ष की तुलना में इस वर्ष नए रेजीडेंशियल प्रोजेक्ट्स की शुरुआत में करीब 35 फीसदी की कमी आई है.

First published: 6 May 2016, 17:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी